दिल्ली हिंसाः देवांगना, नताशा और आसिफ की जमानत रहेगी जारी, दिल्ली पुलिस को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका

न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की अध्यक्षता वाली पीठ ने मंगलवार को केंद्र सरकार के वकील से कहा कि स्थगन मांगने की एक सीमा होती है। उन्होंने कहा कि आरोपी दो साल से जमानत पर हैं और उसे नहीं लगता कि इस मामले को जारी रखने का कोई कारण है।

दिल्ली हिंसा में देवांगना, नताशा और आसिफ की जमानत के खिलाफ दिल्ली पुलिस की याचिका सुप्रीम कोर्ट से खारिज
दिल्ली हिंसा में देवांगना, नताशा और आसिफ की जमानत के खिलाफ दिल्ली पुलिस की याचिका सुप्रीम कोर्ट से खारिज
user

नवजीवन डेस्क

उच्चतम न्यायालय ने राष्ट्रीय राजधानी में 2020 में हुए दंगों के तीन आरोपियों देवांगना कलिता, नताशा नरवाल और आसिफ इकबाल की जमानत के खिलाफ दिल्ली पुलिस की याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। फरवरी 2020 में हुए इन सांप्रदायिक दंगों में 53 लोगों की मौत हो गई थी तथा 700 से ज्यादा अन्य लोग घायल हो गए थे।

जस्टिस संजय किशन कौल की अध्यक्षता वाली पीठ ने मंगलवार को केंद्र सरकार के वकील से कहा कि स्थगन मांगने की एक सीमा होती है। उन्होंने कहा कि आरोपी दो साल से जमानत पर हैं और उसे नहीं लगता कि इस मामले को जारी रखने का कोई कारण है। इससे पहले शीर्ष अदालत ने जुलाई 2021 में तीनों की जमानत के रद्द करने पर विचार के लिए अपनी अनिच्छा जाहिर की थी। तीनों पर गैर-कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत मामले दर्ज किए गए हैं।


जब केंद्र के वकील ने अदालत से इस मामले को बुधवार को फिर से उठाने का आग्रह किया, तो न्यायमूर्ति कौल ने कहा कि अब तक कई स्थगन मांगे जा चुके हैं और इस मामले में कुछ भी नहीं बचा है। हाईकोर्ट द्वारा जमानत देने के फैसले का उल्लेख करते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि यह यूएपीए अधिनियम के प्रावधानों की व्याख्या करते हुए जमानत पर एक अत्यंत विस्तृत आदेश है और उसकी राय में एकमात्र मुद्दा जिसकी जांच की जानी थी वह यह है कि क्या तथ्यात्मक परिदृश्य में अभियुक्तों को जमानत दी जाए या नहीं।

न्यायमूर्ति कौल ने स्पष्ट किया कि इस मामले में नोटिस जारी करते हुए अदालत ने कहा था कि फैसलों को नजीर नहीं माना जाएगा। दिल्ली पुलिस की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि तीन छात्र कार्यकर्ताओं को जमानत देने वाले उच्च न्यायालय के फैसलों में बड़ी संख्या में व्यक्तिगत विचार थे। इसके जवाब में जस्टिस कौल ने कहा कि अदालत ने अपने पिछले आदेश में पहले ही यह मान लिया था कि फैसलों को मिसाल के तौर पर नहीं माना जाएगा और इस मामले में किसी और आदेश की आवश्यकता नहीं है।


पीठ ने कहा कि जमानत आदेश में अदालत को केवल यह विचार करना है कि क्या व्यक्ति को जमानत पर रिहा किया जाना है या नहीं और इस बात पर जोर दिया कि इस मामले में दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा 2021 के फैसलों को कानूनी स्थिति पर एक मिसाल के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

शीर्ष अदालत दिल्ली दंगों के एक बड़े मामले में तीन आरोपियों को जमानत देने के हाईकोर्ट के 15 जून 2021 के फैसले के खिलाफ दिल्ली पुलिस की याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी।
अदालत ने यह स्पष्ट कर दिया था कि उच्च न्यायालय के निर्णयों को एक मिसाल के रूप में नहीं माना जाएगा और किसी भी कार्यवाही में किसी भी पक्ष द्वारा इसकी नजीर नहीं दी जा सकती है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;