कोविशील्ड के बाद कोवैक्सीन की डिलिवरी शुरू, देश के 11 शहरों में वैक्सीन की खेप पहुंची

भारत बायोटेक प्रमुख ने कहा कि 55 लाख खुराक के लिए सरकारी खरीद आदेश मिलने के बाद कंपनी ने दिल्ली, गुवाहाटी, पटना, कुरुक्षेत्र, बेंगलूरू, पुणे, भुवनेश्वर, जयपुर, चेन्नई और लखनऊ में वैक्सीन की पहली खेप भेज दी है, जिनमें से कुछ पहुंच चुकी हैं, बाकी शाम तक पहुंचेंगी।

फोटोः @BharatBiotech
फोटोः @BharatBiotech
user

नवजीवन डेस्क

पूरे देश में 16 जनवरी से शुरू होने वाले कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की तैयारी जोरों पर है। इसके लिए देश के कोने-कोने में वैक्सीन पहुंचाने की प्रक्रिया जारी है। सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड वैक्सीन के बाद अब भारत बायोटेक की कोवैक्सीन की डिलिवरी भी शुरू हो गई है। बुधवार को हैदराबाद से कोवैक्सीन की पहली खेप दिल्ली समेत देश के 11 शहरों में पहुंचाई गई।

दिल्ली के अलावा आज बेंगलूरू, चेन्नई, पटना, जयपुर, लखनऊ, सूरत, रांची, कुरूक्षेत्र, कोच्चि समेत 11 शहरों में कोवैक्सीन की पहली खेप पहुंची। घरेलू एयरलाइंस एयर इंडिया ने बुधवार को भारत बायोटेक को 11 शहरों में 'कोवैक्सीन' की शिपिंग के लिए लॉजिस्टिकल सपोर्ट प्रदान किया। इसी के मद्देनजर एयर इंडिया ने हैदराबाद से दिल्ली तक वैक्सीन की पहली खेप पहुंचाई।

भारत बायोटेक के प्रमुख ने एक बयान में कहा, "55 लाख खुराक के लिए सरकारी खरीद आदेश मिलने के बाद भारत बायोटेक ने गनवरम, गुवाहाटी, पटना, दिल्ली, कुरुक्षेत्र, बेंगलूरू, पुणे, भुवनेश्वर, जयपुर, चेन्नई और लखनऊ में वैक्सीन की पहली खेप को भेज दिया है। वहीं कुछ शिपमेंट संबंधित शहरों में पहुंच चुके हैं, जबकि अन्य को आज शाम तक वितरित किया जाएगा।"

कंपनी की ओर से दिए बयान में कहा गया कि, "कोवैक्सीन एक अत्यधिक शुद्ध और असक्रिय दो खुराक वाली सार्स-कोव-2 वैक्सीन है, जिसे वेरो सेल मैन्यूफैक्चरिंग प्लेटफॉर्म में निर्मित किया गया है। वेरो सेल एक उत्कृष्ट सुरक्षा ट्रैक के साथ 30 करोड़ से अधिक खुराक तैयार करने का रिकॉर्ड बना चुकी है। यह भारत में बना स्वदेशी टीका है।”

बता दें कि तीन दिन बाद 16 जनवरी से देश में कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में वैक्सीनेशन की शुरुआत करते हुए वर्चुअली तरीके से कोविन ऐप को भी लॉन्च करेंगे। देश में सबसे पहले 3 करोड़ हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोरोना टीका लगना है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next