मध्य प्रदेश में पृथक विंध्य प्रदेश की उठी मांग, सत्तारूढ़ BJP के विधायक ने ही दिखाए बगावती तेवर

इस आंदोलन के अगुआ के तौर पर सामने आ रहे बीजेपी के विधायक नारायण त्रिपाठी कभी समाजवादी पार्टी में हुआ करते थे और चर्चा है कि त्रिपाठी उत्तर प्रदेश चुनाव के नतीजे आने के बाद नई रणनीति पर काम करने वाले हैं जिसकी शुरूआत पृथक विंध्य प्रदेश से करना चाह रहे हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

मध्य प्रदेश में अब विंध्य क्षेत्र को अलग राज्य बनाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। इस मामले में बीजेपी के मैहर से विधायक नारायण त्रिपाठी के तो बगावती तेवर सामने आने लगे हैं। उन्होंने तो नई पार्टी के गठन तक की बात कहकर अपनी ही पार्टी की शिवराज सरकार के सामने समस्या खड़ी कर दी है।

मध्य प्रदेश में बीते काफी समय से महाकौशल, विंध्य और बुंदेलखंड को राज्य बनाए जाने की मांग उठती रही है। सबसे पुराने आंदोलन में से एक है बुंदेलखंड पृथक राज्य का आंदोलन। बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाए जाने का भरोसा तमाम राजनीतिक दल वर्षों से दिलाते आ रहे हैं, मगर अब तक पृथक राज्य अस्तित्व में नहीं आ पाया है। इसी बीच अब विंध्य प्रदेश की मांग भी उठने लगी है।


बीजेपी के मैहर विधानसभा क्षेत्र से विधायक नारायण त्रिपाठी तो अलग राज्य के मुद्दे पर नई पार्टी बनाने जा रहे हैं। उन्होंने विंध्य प्रदेश पुनर्निर्माण मंच के रीवा में हुए संभागीय कार्यकर्ता सम्मेलन में नई पार्टी के गठन का ऐलान किया। उन्होंने यहां तक कह दिया कि इस पृथक राज्य के सात जिलों की सभी विधानसभा सीटों पर घर-घर जाकर विंध्य प्रदेश बनाने की चर्चा करेंगे और 2023 से पहले विंध्य प्रदेश का गठन नहीं होता है तो थर्ड फ्रंट चुनाव लड़ेगा।

जिस इलाके को विंध्य प्रदेश का दर्जा दिए जाने की मांग की जा रही है उसमें सात जिले और 30 विधानसभा सीटें आती हैं। यह सियासी तौर पर किसी भी दल का गढ़ नहीं रहा है। राजनीतिक गलियारों में जारी चचार्ओं पर गौर किया जाए तो इस आंदोलन में वे सभी लोग शामिल होने के लिए तैयार हैं जो अपने राजनीतिक दल में उपेक्षित हैं और उनकी महत्वाकांक्षा पूरी नहीं हो पा रही हैं।


इस आंदोलन के अगुआ के तौर पर सामने आ रहे बीजेपी के विधायक त्रिपाठी कभी समाजवादी पार्टी में हुआ करते थे और कहा तो यहां तक जा रहा है कि त्रिपाठी उत्तर प्रदेश के नतीजे आने के बाद नई रणनीति पर काम करने वाले हैं। इसकी शुरूआत वह पृथक विंध्य प्रदेश के जरिए करना चाह रहे हैं और नई पार्टी भी उसी रणनीति का हिस्सा भी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia