यूपी कांग्रेस अध्यक्ष ने की कानपुर कांड की जांच की मांग, माफिया-बीजेपी नेताओं के सांठगांठ का होगा खुलासा

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि बीजेपी की मदद के बगैर विकास दुबे जैसे अपराधी खुलेआम नहीं घूम सकते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य की जनता को यह जानना चाहिए कि कैसे सत्ताधारी दल के विधायकों की मदद से विकास दुबे जैसा हिस्ट्रीशीटर अपना आपराधिक साम्राज्य चलाता रहा।

फोटोः पीटीआई
फोटोः पीटीआई
user

आईएएनएस

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने गैंगस्टर विकास दुबे के साथ सत्तारूढ़ दल के विधायकों का नाम आने पर बीजेपी पर हमला बोलते हुए आरोपों की उच्चस्तरीय जांच की मांग उठाई है। अजय कुमार लल्लू ने अपने बयान में कहा कि बीजेपी के संरक्षण में गुंडे-मफियाओं के फलने-फूलने के तामाम साक्ष्य सामने आ रहे हैं। सभी आरोपों की उच्चस्तरीय जांच की जानी चाहिए। जांच में सामने आएगा कि किस तरह से बीजेपी नेता और विधायक माफियाओं से सांठगांठ कर आमजन की सुरक्षा को खतरे में डाल रहे हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि विकास दुबे को कुछ समय पहले एसटीएफ ने राजधानी में गिरफ्तार किया था और उस समय के उसके बयानों से साफ हो गया है कि बीजेपी के दो विधायकों से उसके गहरे संबंध रहे हैं। यह सब सार्वजनिक हो चुका है कि किस तरह से बीजेपी नेताओं और विधायकों की शह पर विकास दुबे ने आतंक का साम्राज्य स्थापित कर रखा था।

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि उनकी पार्टी का पहले दिन से मानना है कि बीजेपी की मदद के बगैर विकास दुबे जैसे अपराधी खुलेआम नहीं घूम सकते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य की जनता को यह जानना चाहिए कि कैसे सत्ताधारी दल के नेताओं और विधायकों की मदद से विकास दुबे जैसा हिस्ट्रीशीटर अपनी आपराधिक गतिविधियां संचालित करता रहा।

बता दें कि कानपुर के चौबेपुर के बिकरू में सीओ समेत आठ पुलिस जवानों की हत्या में शामिल रहे मोस्टवांटेड विकास दुबे का वीडियो और ऑडियो वायरल हो रहा है, जिसमें उसने दो विधायकों के नाम लिए हैं। हालांकि ये वीडियो काफी पुराना बताया जा रहा है, लेकिन ऑडियो को लेकर संदेह बना है। टीवी चौनलों पर वीडियो और ऑडियो प्रसारित होने के बाद दोनों विधायकों ने भी अपना पक्ष रखा है। एक विधायक ने विकास से कभी कोई संबंध न होने और न कभी मिलने की बात कही है, तो वहीं दूसरे विधायक ने ऐसे वीडियो की जांच कराने और मामला ऊपर तक रखने की बात कही है।

लोकप्रिय
next