उत्तर भारत में आगे भी छाया रहेगा घना कोहरा, IMD ने बताया कब मिलेगी शीत लहर से राहत

आईएमडी ने पूर्वानुमान जताया है कि अगले दो दिनों तक उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में अधिक शीत लहर की स्थिति जारी रहने की संभावना है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

पूरे उत्तर भारत में ठंड से बुरा हाल है और अगले कुछ दिनों तक इससे राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को कहा कि अगले तीन दिनों तक उत्तर भारत में घने कोहरे की स्थिति जारी रहने की संभावना है।

आईएमडी ने पूर्वानुमान जताया है कि अगले दो दिनों तक उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में अधिक शीत लहर की स्थिति जारी रहने की संभावना है।

अपने डेली बुलेटिन में, मौसम पूर्वानुमान एजेंसी ने कहा कि पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान के अधिकांश हिस्सों में न्यूनतम तापमान 3 से 7 डिग्री सेल्सियस, दक्षिणी राजस्थान, उत्तरी मध्य प्रदेश, बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश और झारखंड के हिस्सों में 8 से10 सेल्सियस डिग्री के बीच है।

आईएमडी ने कहा, "उत्तर पश्चिम और इससे सटे पूर्वी भारत के कई हिस्सों में ये सामान्य से 1 से 4 डिग्री सेल्सियस नीचे हैं।"


पूर्वानुमान है कि सोमवार रात से बुधवार सुबह तक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली के कई हिस्सों में रात और सुबह में कुछ घंटों के लिए घना कोहरा छाए रहने की संभावना है। वहीं, कुछ हिस्सों में बुधवार की रात और गुरुवार की सुबह और अगले दो दिनों तक घना कोहरा रहेगा।

विभाग ने कहा, "सोमवार और शुक्रवार के दौरान झारखंड के अलग-अलग इलाकों में, उत्तराखंड, उत्तरी राजस्थान, उत्तरी मध्य प्रदेश, उपहिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में बुधवार तक रात और सुबह कुछ घंटों के लिए घने कोहरे की स्थिति बने रहने की भी संभावना है।" .

आईएमडी ने भविष्यवाणी की है कि सोमवार और बुधवार के दौरान पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली के कुछ हिस्सों में अधिक शीतलहर की स्थिति जारी रहने की संभावना है। जबकि, सोमवार और गुरुवार के दौरान उत्तरी राजस्थान के अलग-अलग हिस्सों में शीत लहर जारी रहने की संभावना है।

मौसम पूर्वानुमान एजेंसी ने कहा, "मंगलवार को उत्तर पश्चिम भारत में पाला पड़ने की संभावना है।"

आईएमडी ने कहा, "उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में सोमवार को और अलग-अलग हिस्सों में मंगलवार को भी अधिक ठंडे दिन की स्थिति जारी रहने की संभावना है।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;