बीजेपी और योगी के रोड़े अटकाने के बावजूद प्रियंका गांधी की मदद से 44,000 से ज्यादा प्रवासी पहुंचे अपने घर

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की मदद से अब तक देश के कई हिस्सों में फंसे उत्तर प्रदेश के हजारों श्रमिकों को सुरक्षित उनके घर पहुंचाया जा चुका है। यह प्रक्रिया मई में श्रमिक स्पेशल ट्रेन और यूपी सरकार के बसों का परिचालन शुरू किए जाने के काफी पहले से ही जारी है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

उत्तर प्रदेश में 1,000 बसें मुहैया कराने का प्रस्ताव योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार द्वारा खारिज कर दिए जाने के बावजूद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की मदद से अब तक राज्य के 44,000 से अधिक प्रवासी अपने घर पहुंचाए जा चुके हैं।

इस दौरान प्रियंका गांधी ने लॉकडाउन से पैदा संकट में देश के कई हिस्सों में फंसे लोगों को श्रमिक स्पेशल ट्रेनों, बसों और परिवहन के अन्य साधनों में सीटें हासिल करने में भी मदद की है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि यह प्रक्रिया उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से प्रवासियों को भेजने के लिए बसों को प्रवेश की अनुमति देने के लिए की गई अपील से काफी पहले ही शुरू कर दी गई थी।

प्रियंका गांधी से जुड़े कांग्रेस के एक शीर्ष सूत्र ने कहा कि पार्टी महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी एक मई को श्रमिक स्पेशल ट्रेनें शुरू किए जाने से पहले और मई के मध्य में प्रदेश सरकार की ओर से बसों का परिचालन शुरू किए जाने के काफी पहले से ही लोगों की मदद कर रही हैं। सूत्र ने कहा कि जब लॉकडाउन को सबसे पहले 19 दिनों के लिए बढ़ाया गया, तभी से प्रियंका गांधी ने फंसे प्रवासी कामगारों की मदद करना शुरू कर दिया था, क्योंकि प्रवासी मजदूरों के अपने बच्चों के साथ पैदल चलने की खबरें समाचार चैनलों और सोशल मीडिया पर दिखाई देने लगी थीं।

कांग्रेस सूत्र ने बताया कि प्रियंका गांधी के हस्तक्षेप के कारण 44,000 से अधिक प्रवासी श्रमिकों को अलग-अलग राज्यों द्वारा उत्तर प्रदेश के लिए मुहैया कराई गई बसों या श्रमिक स्पेशल ट्रेनों द्वारा वापस भेजा गया।"

कांग्रेस सूत्र ने बताया कि "फंसे हुए प्रवासी कामगारों की मदद करने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए प्रियंका ने पांच मई को 'उत्तर प्रदेश मित्र' हेल्पलाइन शुरू की थी। इस हेल्पलाइन के माध्यम से 5.5 लाख से अधिक लोगों ने अपनी यात्रा के लिए पंजीकरण कराया, जबकि राज्यों की विभिन्न जिला इकाइयों से पांच लाख से अधिक अनुरोध प्राप्त हुए।

सूत्र ने कहा कि सूची को विभिन्न राज्य इकाइयों के साथ उनकी यात्रा व्यवस्था के लिए साझा किया गया। यह पूछे जाने पर कि क्या प्रियंका गांधी की टीम ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के लिए भुगतान किया है, सूत्र ने स्पष्ट किया कि कांग्रेस नेता ने ट्रेनों को बुक नहीं कराया, लेकिन वह प्रवासी मजदूरों के उन अनुरोधों को आगे बढ़ाती रहीं, जो उनके कार्यालय में प्राप्त हुए थे।

कांग्रेस सूत्र ने बताया कि इसके बाद पार्टी की राज्य इकाइयों ने प्रवासी श्रमिकों के साथ समन्वय किया और बसों या श्रमिक स्पेशल ट्रेनों द्वारा उनकी वापसी की व्यवस्था की और कांग्रेस राज्य इकाइयों द्वारा राशि का भुगतान किया गया।

गौरतलब है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रवासियों की दुर्दशा को देखते हुए 4 मई को कहा था कि पार्टी उनके रेल टिकट का खर्च वहन करेगी। सूत्र ने कहा, "तभी से कांग्रेस की राज्य इकाइयों ने गुजरात, महाराष्ट्र और पंजाब राज्य सरकारों को 22 से अधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के किराए के लिए भुगतान किया, जो उत्तर प्रदेश के लिए भेजी गई थीं। इसके साथ ही हमारे कार्यकर्ता यात्रियों की सूची के लिए समन्वय भी कर रहे थे।"

मुंबई यूथ कांग्रेस के उपाध्यक्ष सूरज सिंह ठाकुर ने बताया, "प्रियंका गांधी का कार्यालय मुंबई में फंसे हुए प्रवासी कामगारों की यात्रा और राशन व्यवस्था के अनुरोध को हमसे साझा करता है।" प्रवासी श्रमिकों की सुरक्षित वापसी के लिए समन्वय कर रहे ठाकुर ने कहा कि प्रियंका गांधी के कार्यालय ने यह सुनिश्चित किया कि महाराष्ट्र कांग्रेस टीम के साथ साझा की गई सूची का ठीक से पालन किया गया और सभी को सहायता प्रदान की गई।

सूरज ठाकुर ने कहा कि प्रियंका गांधी के हस्तक्षेप के बाद कांग्रेस राज्य इकाई ने महाराष्ट्र से उत्तर प्रदेश के लिए 10,000-12,000 से अधिक प्रवासी श्रमिकों की यात्रा की व्यवस्था की। उन्होंने बताया कि इन श्रमिकों को ट्रेनों, बसों या अन्य छोटे वाहनों की मदद से उनके घरों तक पहुंचाने में मदद की गई।

वहीं लुधियाना कांग्रेस अध्यक्ष अश्विनी कुमार शर्मा ने कहा, "प्रियंका गांधी के कार्यालय से लुधियाना में फंसे लोगों और जिन्हें सहायता की आवश्यकता थी, उनकी सूची साझा की जाती रही।" शर्मा ने कहा, "हमने एंबुलेंस की व्यवस्था की और कई लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया, क्योंकि प्रियंका गांधी कार्यालय से इसका अनुरोध किया गया था।" शर्मा ने कहा कि प्रियंका गांधी ने प्रवासी कामगारों की यात्रा की व्यवस्था करने और राशन या किसी अन्य सहायता की आवश्यकता के लिए व्यक्तिगत रूप से हस्तक्षेप किया।

उन्होंने कहा, "हमें लुधियाना से हजारों लोगों का अनुरोध मिला, जो उत्तर प्रदेश वापस जाना चाहते थे और फिर हमने सूची तैयार की और बसों, छोटी कारों और श्रमिक स्पेशल ट्रेनों द्वारा उनकी यात्रा की व्यवस्था की।" शर्मा ने कहा कि सोनिया गांधी के संदेश के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले प्रवासी श्रमिकों के लिए 35 करोड़ रुपये के ट्रेन टिकट खरीदे।

गुजरात के सूरत में कांग्रेस उपाध्यक्ष दीप नाइक ने कहा कि प्रियंका गांधी द्वारा शुरू की गई हेल्पलाइन लोगों से जुड़ने के लिए बहुत मददगार साबित हुई।

Published: 5 Jun 2020, 10:52 PM
लोकप्रिय