डीके शिवकुमार ने कर्नाटक कांग्रेस की बागडोर संभाली, कार्यकर्ताओं के साथ शपथ लेकर किया पदभार ग्रहण

कार्यक्रम में सबसे पहले 15 जून को लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से हुई झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। इसके बाद पार्टी की परंपरा के अनुसार, दिनेश गुंडू राव ने डी के शिवकुमार को कांग्रेस का झंडा सौंपा, जिन्होंने सफेद टोपी पहन रखी थी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कर्नाटक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कनकपुरा विधानसभा क्षेत्र से विधायक डी के शिवकुमार (58) ने अपने खास अंदाज में गुरुवार को पार्टी की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष की कमान संभाल ली। कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण पूरे राज्य में लाखों की संख्या में पार्टी के नेता और कार्यकर्ता लाइव स्ट्रीमिंग के माध्यम से इस मौके के गवाह बने। पार्टी नेता एम ए सलीम ने बताया कि शिवकुमार ने कर्नाटक राज्य कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के रूप में पार्टी कार्यालय में शपथ ली। उन्होंने बताया कि इस दौरान स्वास्थ्य गाइडलाइंस का पूरा ख्याल रखा गया।

पदभार ग्रहण कार्यक्रम के दौरान ही कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने फोन कर डीके शिवकुमार को बधाई दी। राहुल गांधी ने विश्वास जताया कि डीके शिवकुमार पूरी पार्टी को साथ लेकर इस संकट की घड़ी में प्रदेश के लोगों की बेहतरी के लिए काम करेंगे। डीके शिवकुमार ने खुद पर भरोसा करने के लिए राहुल गांधी का शुक्रिया अदा किया और कहा कि वह हर उम्मीद पर खरा उतरेंगे।

राज्य कांग्रेस कार्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में कांग्रेस महासचिव के सी वेणुगोपाल, राज्य से नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्य मल्लिकार्जुन खड़गे, कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता एस सिद्धारमैया, पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव, पूर्व केंद्रीय मंत्री रहमान खान और पार्टी की महिला इकाई की प्रमुख पुष्पा अमरनाथ उपस्थित रहे।

कार्यक्रम के दौरान सबसे पहले 15 जून को लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से हुई झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। इसके बाद पार्टी की परंपरा के अनुसार, दिनेश गुंडू राव ने डी के शिवकुमार को कांग्रेस का झंडा सौंपा, जिन्होंने सफेद टोपी पहन रखी थी।इस मौके पर केसी वेणुगोपाल ने उद्घाटन भाषण दिया और उनके बाद गुंडू राव, शिवकुमार, खड़गे, सिद्धारमैया, विधान परिषद में पार्टी के नेता एस आर पाटील और कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर खांद्रे और सतीश जरकीहोली ने भी अपने विचार रखे।

कर्नाटक कांग्रेस के वरिष्ठ नेती डी के शिवकुमार को राज्य में पार्टी का संकटमोचक माना जाता है। राज्य में पिछले चुनाव के बाद बनी कांग्रेस-जेडीएस सरकार पर बारबार आए संकट में शिवकुमार हर बार संकटमोचक के तौर पर उभर कर सामने आए। सरकार बनने के बाद से तोड़फोड़ की लगातार हो रही कोशिशों को उन्होंने कई बार नाकाम किया। हालांकि, अंततः कांग्रेस-जेडीएस सरकार दलबदल का शिकार हो गई और राज्य में बीजेपी की सरकार बन गई। लेकिन शिवकुमार सरकार जाने के बाद भी लगातार सक्रिय हैं और बीजेपी की हर चुनौती का मुंहतोड़ जवाब देते आए हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia