हालात

फेडरल फ्रंट बनाने की केसीआर की कोशिशों को लगा झटका, स्टालिन ने साफ कहा- कांग्रेस को समर्थन दो

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की उन कोशिशों को झटका लगा है जिसके तहत वे गैर-बीजेपी और गैर-कांग्रेस फेडरल फ्रंट बनाना चाहते थे। इस सिलसिले में उनकी डीएमके अध्यक्ष एम के स्टालिन से मुलाकात भी नाकाम रही।

फोटो : सोशल मीडिया

लोकसभा चुनाव पूरे होने से पहले ही एक बार फिर तेलंगाना के मुख्यमंत्री और टीआरएस नेता के चंद्रशेखर राव ने गैर-बीजेपी और गैर-कांग्रेस फेडरल फ्रंट बनाने की कवायद शुरु कर दी है। लेकिन उनकी इस कवायद को झटका लगा है।

के चंद्रशेखर राव ने सोमवार को डीएमके अध्यक्ष एम के स्टालिन से मुलाकात की, लेकिन नतीजा उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। सूत्रों का कहना है कि स्टालिन ने केसीआर से साफ कह दिया कि वे भी कांग्रेस को समर्थन दें और कांग्रेस की अगुवाई में सरकार बनाने में मदद करें। गौरतलब है कि डीएमके का कांग्रेस के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन है। इसके अलावा कई मौकों पर स्टालिन प्रधानमंत्री पद के लिए राहुल गांधी के नाम की पैरवी कर चुके हैं।

केसीआर-स्टालिन मुकालात के बाद डीएमके प्रवर्ता सर्वनन अन्नादुरै ने ट्वीट कर कहा कि, “हमारे नेता एम के स्टालिन ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर से कहा है कि वे कांग्रेस गठबंधन को समर्थन दें।” उन्होंने आगे लिखा है कि 2019 के चुनाव में राज्यों के नेता ही 23 मई के बाद असली हीरो होंगे।

पिछले हफ्ते राव ने अपनी कोशिशों के तहत केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन से मुलाकात की थी, और एम के स्टालिन से मिलने का वक्त मांगा था, लेकिन उस वक्त डीएमके चीफ प्रचार में व्यस्त थे। तब डीएमके नेताओं ने कहा था कि यह स्टालिन का संकेत है कि वह बैठक नहीं करना चाहते सोमवार को दोनों नेताओं के बीच बैठक एक घंटे बैठक चली, जिसके बाद राव मीडिया से बिना बातचीत किए ही चले गए।

डीएमके के हवाले से सूत्रों ने कहा कि स्टालिन ने फेडरल फ्रंट में शामिल होने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि केसीआर कांग्रेस की अगुआई वाले यूपीए को समर्थन दें।

स्टालिन से मुलाकात के बाद अभी केसी आर या उनकी पार्टी टीआरएस की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। ध्यान रहे कि केसीआर ने पिछले साल फेडरल फ्रंट बनाने की कोशिशें शुरू की थीं, जिस पर ज्यादातर नेताओं से उन्हें उदासीन प्रतिक्रिया ही। मिली थी।

लोकप्रिय