दर्द से तड़प रही गर्भवती के लिए प्लेटफॉर्म पर ऑटो ले आया ड्राइवर, पुलिस ने किया गिरफ्तार, कोर्ट ने दी जमानत

जब ड्राइवर ऑटो को प्लेटफॉर्म पर लेकर आया तो पुलिस ने उसे देख लिया, लेकिन महिला की हालत को देखते हुए उसे छोड़ दिया, लेकिन बाद में गिरफ्तार कर लिया गया। आरपीएफ ने कहा कि ये सही है कि उसने अच्छे काम के लिए यह कदम उठाया, लेकिन उसने नियमों का उल्लंघन किया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दर्द से तड़प रही एक गर्भवती महिला की मदद करना मुंबई में एक ऑटो ड्राइवर को भारी पड़ गया। इस मदद के लिए ऑटो ड्राइवर को पुलिस ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे जमानत लेना पड़ा। मामला मुंबई के विरार स्टेशन का है, जहां प्लेटफॉर्म पर दर्द से तड़प रही महिला की मदद के लिए ड्राइवर अपने ऑटो को रेलवे प्लेटफॉर्म पर लेकर पहुंच गया। ड्राइवर के इस कदम के लिए आरपीएफ ने बाद में उसे गिरफ्तार कर रेलवे कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे सोमवार को जमानत पर रिहा कर दिया गया।

विरार स्टेशन के आरपीएफ प्रभारी प्रवीण कुमार यादव ने बताया कि 7 महीने की एक गर्भवती महिला रविवार (4 अगस्त) की सुबह अपने पति के साथ एक ट्रेन के विकलांग कोच में सफर कर रही थी। भारी बारिश की वजह से हुए जलजमाव के कारण ट्रेन को विरार स्टेशन पर रोक दिया गया था। उसी दौरान अचानक गर्भवती महिला को लेबर पेन शुरू हो गया। जिसको देखते हुए उसका पति ट्रेन से उतरकर मदद मांगने की कोशिश करने लगा, तभी उसकी मुलाकात सागर कमलाकर गावड़ नामक एक ऑटो ड्राइवर से हो गई, जिसने अपना ऑटो प्लेटफॉर्म के बाहर ही खड़ा किया हुआ था।


इसके बाद महिला की हालत देखकर उसकी मदद करने के लिए ऑटो ड्राइवर अपना ऑटो सीधे प्लेटफॉर्म पर ले आया और उस कोच तक पहुंच गया, जहां महिला बैठी हुई थी। ऑटो ड्राइवर वहां से उस महिला और उसके पति को संजीवनी अस्पताल ले गया, जहां उसने एक बच्चे को जन्म दिया। बाद में आरपीएफ ने सागर को रेलवे एक्ट 1989 के सेक्शन 154 और 159 के तहत गिरफ्तार कर रेलवे मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया, जहां से उसे जमानत मिल गई।

खास बात ये है कि जब सागर ऑटो को प्लेटफॉर्म पर लेकर आया तो आरपीएफ ने उसे देख लिया था, लेकिन महिला की स्थिति को देखते हुए आरपीएफ जवानों ने ऑटो ड्राइवर को छोड़ दिया, लेकिन बाद में उसे गिरफ्तार कर लिया। आरपीएफ अधिकारी यादव का कहना है कि ये बात सही है कि सागर ने एक अच्छे काम के लिए यह कदम उठाया, लेकिन उसने नियमों का उल्लंघन किया, जिसके लिए उसे गिरफ्तार करना पड़ा। उसे अन्य यात्रियों के जीवन को खतरे में डालने और रेलवे के नियमों का उल्लंघन करने के लिए गिरफ्तार किया गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia