Cyclone Biparjoy: रौद्र रूप लेने वाला है चक्रवात तूफान 'बिपारजॉय'! गुजरात के बंदरगाहों को सावधान रहने के निर्देश

आईएमडी के अनुसार, तूफान उत्तर की ओर स्थानांतरित हो गया है और तटीय क्षेत्रों के लिए संभावित जोखिम बन सकता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने गुजरात के सभी बंदरगाहों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। इसमें अरब सागर में एक गहरे दबाव के चक्रवाती तूफान बिपरजॉय में तब्दील होने पर दूरवर्ती चेतावनी (डीडब्ल्यू दो) सिग्नल को फहराने का निर्देश दिया है। आईएमडी के अनुसार, तूफान उत्तर की ओर स्थानांतरित हो गया है और तटीय क्षेत्रों के लिए संभावित जोखिम बन सकता है।

चक्रवाती तूफान बिपारजॉय कल पूर्व-मध्य और दक्षिण-पूर्व अरब सागर के ऊपर स्थिर रहा। आईएमडी बुलेटिन ने कहा कि अगले 24 घंटों के भीतर उसी क्षेत्र में एक गंभीर चक्रवाती तूफान में धीरे-धीरे तेज होने की उम्मीद है। तूफान वर्तमान में गोवा से लगभग 900 किमी पश्चिम-दक्षिण पश्चिम, मुंबई से 1020 किमी दक्षिण पश्चिम, पोरबंदर से 1090 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम और कराची से 1380 किमी दक्षिण में स्थित है।

मौसम की इस घटना के आलोक में मछुआरों को गहरे समुद्र में न जाने की चेतावनी दी गई है। आईएमडी ने उन्हें संभावित खतरनाक परिस्थितियों के कारण मछली पकड़ने की गतिविधियों से परहेज करने की सलाह दी है। चक्रवाती तूफान से उत्तर गुजरात तट के साथ 45-55 किमी प्रति घंटे की गति के साथ तेज हवाएं चलने का अनुमान है, जबकि अस्थायी रूप से 65 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। मुख्य रूप से पश्चिमी दिशाओं से आने वाली लहरों के साथ समुद्र में उफान आने की उम्मीद है।

दक्षिण गुजरात तट के लिए, पहले दिन के लिए कोई चेतावनी जारी नहीं की गई है, लेकिन मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 7 जून से मध्य अरब सागर में न जाएं।


वर्तमान में समुद्र में गए मछुआरों से तट पर लौटने का आग्रह किया जाता है। जिन विशिष्ट क्षेत्रों में मछली पकड़ने की गतिविधियों की सलाह नहीं दी जाती है, उनमें 6 जून को दक्षिण-पूर्व और आसपास के मध्य और दक्षिण-पश्चिम अरब सागर, 7-9 जून तक दक्षिण अरब सागर के मध्य और आस-पास के क्षेत्र, और उत्तर और दक्षिण अरब सागर के मध्य और आस-पास के क्षेत्र शामिल हैं। 10 जून। इसी तरह की चेतावनी केरल-कर्नाटक तटों, लक्षद्वीप-मालदीव क्षेत्रों के लिए 6-7 जून और कोंकण-गोवा-महाराष्ट्र के तटों के लिए 8-10 जून तक जारी की गई है।

मछुआरों की चेतावनी के अलावा, गुजरात तट के सभी बंदरगाहों को दूरस्थ चेतावनी संकेत - दो (डीडब्ल्यू दो) फहराने का निर्देश दिया गया है। इस उपाय का उद्देश्य जहाजों को सतर्क करना और क्षेत्र में समुद्री गतिविधियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है।

आईएमडी ने भविष्यवाणी की है कि चक्रवात बिपारजॉय आने वाले घंटों में एक गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्दील हो जाएगा, इसमें हवा की गति संभावित रूप से 135-145 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है और अगले तीन से चार दिनों में 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती है। मौसम कार्यालय ने मछुआरों से चेतावनियों का पालन करने और समुद्र में जाने से बचने का आग्रह किया है।

मानसून की शुरुआत पर चक्रवात के प्रभाव पर भी कड़ी नजर रखी जा रही है। निजी भविष्यवक्ता स्काईमेट का सुझाव है कि चक्रवाती तूफान के बनने से मानसून की शुरुआत में दो से तीन दिन की देरी हो सकती है। जैसे ही तूफान आगे बढ़ता है, इसके उत्तर की ओर बढ़ने और एक बहुत ही गंभीर चक्रवाती तूफान में और तेज होने की उम्मीद है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */