त्रिपुरा में आंधी-बारिश से भारी तबाही, बाढ़ से हजारों लोग हुए बेघर, बड़े स्तर पर राहत-बचाव का काम जारी

त्रिपुरा में 1 हजार से ज्यादा मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं। राज्य आपदा प्रबंधन अथॉरिटी के प्रमुख सरत दास ने बताया कि उत्तरी त्रिपुरा, उनाकोटी और धलाई जिले प्रभावित हुए हैं। राज्य सरकार ने 40 नावों को बाढ़ प्रभावित इलाकों से लोगों को बचाने के लिए लगाया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

त्रिपुरा में आंधी और भारी बारिश से हालात बिगड़ गए हैं। राज्य में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। कई इलाकों में लोगों के घरों में पानी भर गया है। आलम यह है कि राज्य में हजारों लोग बेघर हो गए हैं। बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया जा रहा है। धर्मनगर में बड़े स्तर पर राहत और बचाव कार्य चलाया जा रहा है। यहां पर एडीआरएफ की 22 टुकड़ियों को तैनात किया गया है, जो राहत और बचाव के काम में जुटी हुई हैं। 739 लोगों को राहत शिविरों में पहुंचा दिया गया है। इनमें 358 लोग उनाकोटी जिले और 381 लोग उत्तरी त्रिपुरा जिले के रहने वाले हैं।

खबरों के मुताबिक, भारी बारिश से राज्य में 1 हजार से ज्यादा मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं। राज्य आपदा प्रबंधन अथॉरिटी के प्रमुख सरत दास ने बताया कि उत्तरी त्रिपुरा, उनाकोटी और धलाई जिले प्रभावित हुए हैं। अधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार के राजस्व विभाग ने 40 नावों को बाढ़ प्रभावित इलाकों से लोगों को बचाने के लिए लगाया है। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल और त्रिपुरा स्टेट राइफल्स भी राहत अभियान में शामिल हुए हैं।

भारी बारिश के बाद नदियों को जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर हैं। उनकोटी जिले में मनु नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है। राज्य के लोगों को फिलहाल बारिश से राहत मिलती दिखाई नहीं दे रही है। मौसम विभाग की मानें तो राज्य में रविवार यानी आज भी बारिश और आंधी जारी रहने की संभावना है।

लोकप्रिय