कुल्लू दशहरा उत्सव पर कोरोना की मार, इस बार शामिल नहीं हो सकेंगे 240 देवी-देवता

विजयादशमी के दिन, जब पूरे देश में दशहरे का समापन होता है, उस दिन कुल्लू घाटी के मुख्य देवता भगवान रघुनाथ के रथ को सुल्तानपुर के ऐतिहासिक मंदिर से हजारों भक्तों द्वारा निकाला जाता है। शोभा यात्रा में 250 देवी-देवताओं का दैवीय मिलन हर साल देखने को मिलता है।1

फाइल फोटोः IANS
फाइल फोटोः IANS
user

आसिफ एस खान

कोरोना वायरस महामारी से न केवल इंसान प्रभावित हुए हैं, बल्कि देवी-देवता भी इसकी चपेट में आ गए हैं, क्योंकि इस साल कोरोना के खतरे को देखते हुए हिमाचल प्रदेश के मशहूर कुल्लू दशहरा में 240 दैवीय शक्तियों पर भी लॉकडाउन की पाबंदी लागू कर दी गई है। सात दिवसीय कुल्लू दशहरा महोत्सव में इस बार केवल सात देवता ही अपनी उपस्थिति दर्ज कराएंगे और ऐसा लगभग 400 सालों में पहली बार होने जा रहा है।

देश-दुनिया में मशहूर कुल्लू दशहरा महोत्सव का शुभारंभ 25 अक्टूबर यानि कि कल रविवार से होने जा रहा है। आयोजकों ने बताया कि इस साल महोत्सव में सभी परंपराओं का पालन सीमित रूप में किया जाएगा और केवल उन्हीं 200 लोगों को रघुनाथ की रथयात्रा में शामिल होने दिया जाएगा, जो कोविड-19 की जांच में नेगेटिव पाए गए हैं।

रथयात्रा यहां की एक 383 साल पुरानी रीति है, जहां दशहरा या विजयादशमी के पहले वाले दिन, जब पूरे देश में त्यौहार का समापन होता है, उस दिन यहां कुल्लू घाटी के मुख्य देवता भगवान रघुनाथ के रथ को सुल्तानपुर के ऐतिहासिक मंदिर से हजारों भक्तों द्वारा निकाला जाता है। इस शोभा यात्रा में 250 देवी-देवताओं का दैवीय मिलन हर साल देखने को मिलता है। त्यौहार के खत्म होने तक इन्हें ढालपुर के मैदान में रखा जाता है।

कुल्लू दशहरा महोत्सव की मुख्य आयोजक उपायुक्त ऋचा शर्मा ने बताया, "सोशल डिस्टेंसिंग की बात को ध्यान में रखते हुए हमने आमंत्रित किया है, बल्कि अनुमति दी है कि इस साल दशहरा उत्सव में केवल सात प्रमुख देवताओं को ही शामिल किया जाएगा।" इस बार प्रमुख देवताओं में बिजली महादेव, मनाली की माता हिडिम्बा सहित अन्य पांच देवताओं को आमंत्रित किया गया है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia