Assembly Elections: उत्तर प्रदेश-पंजाब समेत पांच राज्यों में बजा चुनावी बिगुल, EC ने चुनाव तारीखों का किया ऐलान

उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटें हैं जबकि उत्तराखंड में 70 सीटें हैं, इसके अलावा पंजाब में 117, मणिपुर में 60 तो गोवा में 40 विधानसभा सीटें है जिन पर चुनाव होना है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश, पंजाब, मणिपुर, गोवा और उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने तारीखों का ऐलान कर दिया है। सभी राज्यों में चुनाव 7 चरणों में निपटाए जाएंगी। सभी राज्यों में चुनाव की गिनती 10 मार्च को होगी। आपको बता दें, उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटें हैं जबकि उत्तराखंड में 70 सीटें हैं, इसके अलावा पंजाब में 117, मणिपुर में 60 तो गोवा में 40 विधानसभा सीटों पर चुनाव होना है।

यूपी में कब कब होंगे चुनाव?

यूपी में 10 फरवरी को पहले चरण का चुनाव, 14 फरवरी को दूसरे चरण का मतदान, 20 फरवरी को तीसरे चरण, 23 जनवरी को चौथे चरण का चुनाव, वहीं 27 फरवरी को 5वें चरण का चुनाव होगा। इसके अलाव छठे चरण का मतदान तीन मार्च और आखिरी और सातवें चरण का मतदान 7 मार्च को होगा।

इन तीन राज्यों में एक चरण में होंगे चुनाव

उत्तराखंड, पंजाब और गोवा में एक चरण मेें चुनाव होंगे। 14 फरवरी को इन तीनों राज्यों में वोटिंग होंगी।

मणिपुर में दो चरणों में होंगे चुनाव

मणिपुर में 27 फरवरी को पहले चरण का मतदान होगा, वहीं तीन मार्च को दूसरे चरण के लिए वोटिंग होगी।

CEC सुशील चंद्र ने कहा है कि इस बार 5 राज्यों की 690 विधानसभा क्षेत्रों के लिए चुनाव होंगे। CEC सुशील चंद्र ने कहा कि इस बार पांच राज्यों के चुनाव में कुल 18.34 करोड़ मतदाता हैं, इनमें सर्विस मतदाता भी शामिल हैं। इनमें से 8.55 करोड़ महिला मतदाता हैं। कुल 24.9 लाख मतदाता पहली बार वोट डालेंगे। इनमें से 11.4 लाख लड़कियां पहली बार वोटर बनीं हैं। सभी बूथ ग्राउंड फ्लोर पर होंगे, ताकि लोगों को सुविधा हो। बूथ पर सैनिटाइजर, मास्क उपलब्ध होगा।

उन्होंने कहा कि कोविड सेफ इलेक्शन कराना चुनाव आयोग का उद्देश्य है। CEC ने कहा कि कोरोना काल में चुनाव कराना चुनौती पूर्ण है। CEC सुशील चंद्र ने आगे कहा कि चुनाव आयोग ने 3 लक्ष्यों पर काम किया है। ये लक्ष्य हैं Covid safe elections, आसान इलेक्शन, और मतदाताओं की ज्यादा से ज्यादा भागीदारी। चुनाव आयोग ने आज से 15 जनवरी तक रोड शो, रैली, साइकिल रैली पद यात्रा तक रोक पूर्ण रुप से रोक लगा दी है। 15 जनवरी के बाद पर इस पर विचार किया जाएगा।

चुनाव आयोग ने कहा है कि चुनाव प्रचार डिजिटल, वर्चुअल, मोबाइल के जरिए करें। फिजिकल प्रचार के पारंपरिक साधनों का इस्तेमाल कम से कम करें। इसके अलावा रात आठ बजे से सुबह आठ बजे तक कोई प्रचार, जन संपर्क राजनीतिक पार्टियां नहीं कर सकेंगी। विजय जुलूस नहीं निकाला जा सकेगा। विजय उम्मीदवार दो लोगों के साथ प्रमाण पत्र लेने जाएंगे। पार्टियों को तय जगहों पर ही सभा करने की अनुमति होगी। सभी पार्टियों और उम्मीदवारों को अंडरटेकिंग देनी होगी कि वे कोविड गाइड लाइन का पालन सख्ती से करेंगे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia