वोटिंग के बाद मोदी ने किया अहमदाबाद में रोड शो, कांग्रेस की शिकायत पर चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

गुजरात के अहमदाबाद में पीएम मोदी द्वारा वोटिंग के बाद रोड शो को लेकर विपक्षी नेताओं की शिकायत पर चुनाव आयोग ने गुजरात के मुख्य चुनाव अधिकारी से इस मिनी रोड शो की रिपोर्ट मांगी है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को गुजरात के अहमदाबाद में वोट डाला और इसके बाद खुली गाड़ी में मिनी रोड शो किया और भाषण भी दिया। इससे पहले प्रधानमंत्री सड़क पर भी चले और लोगों से भी मिले।

इस पूरे मामले की शिकायत कांग्रेस की अगुवाई में विपक्षी नेताओं ने चुनाव आयोग से की थी। इस शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने कहा कि इस बारे में गुजरात के मुख्य चुनाव अधिकारी से इस पूरे मामले पर रिपोर्ट मांगी गई है।

कांग्रेस की अगुवाई में गए प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस के जयराम रमेश, अभिषेक मनु सिंघवी और दूसरे नेता शामिल थे। चुनाव आयोग से मिलने के बाद अभिषेक मनु सिंघवी ने पत्रकारों से कहा कि, “हमने दो अत्यंत महत्वपूर्ण और उनमें से एक विशेष रुप से महत्वपूर्ण याचिकाएं हमने रखी हैं।” उन्होंने बताया कि पहला तो यह कि, “माननीय प्रधानमंत्री जी इस देश के सबसे उच्च स्तरीय कार्यपालिका के पद पर आसीन हैं। जितना बड़ा पद होता है उतनी ही बड़ी जिम्मेदारी होती है। यहाँ हमने चुनाव आयोग को बताया, ये अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद प्रसंग है कि उत्तरदायित्व और कर्तव्य समझने की बजाय माननीय प्रधानमंत्री जी हर चीज को तीसरी या चौथी बार जानबूझकर आचार संहिता का जबरदस्त रुप से उल्लंघन कर रहे हैं।”

उन्होंने बताया कि, “कल रात को साढ़े दस बजे हमने लिखित रुप से कंप्लेंट की कि प्रधानमंत्री जी हमेशा जब भी वोट डालते हैं, वोट के बाद आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए एक जुलूस निकालते हैं। हमने कल रात वाली चिट्ठी में लिखित दिया था कि उन्होंने यही प्रक्रिया की थी 2014 के संसदीय चुनाव में, 2017 के असेंबली चुनाव में। अब जबरदस्त बात ये है, भविष्यवाणी हमारी प्रमाणित ऐसे हुई कि आप आज के चुनाव के बाद अपने वोट को दिखाकर इतने लंबे जुलूस पर वे निकले, भाषण दिए, राजनैतिक वक्तव्य दिए, तुरंत वोट के बाद, इससे ज्यादा घोर, बड़ा स्पष्ट पारदर्शी आचार संहिता का उल्लंघन किसी प्रधानमंत्री ने नहीं किया।”

अभिषेक सिंघवी ने बताया कि उन्होंने चुनाव आयोग से प्रधानमंत्री पर 48 या 72 घंटे का प्रतिबंध लगना चाहिए।

Published: 24 Apr 2019, 12:17 AM
लोकप्रिय