चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, शिवसेना नाम और चुनाव चिह्न धनुष-बाण किया फ्रीज, दोनों गुट फिलहाल नहीं कर पाएंगे इस्तेमाल

चुनाव आयोग ने शिवसेना के सिंबल 'धनुष और तीर और शिवसेना नाम पर फिलहाल रोक लगा दी है। इसके बाद उद्धव ठाकरे और शिंदे गुट में से किसी को भी यह सिंबल और शिवसेना के नाम इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं होगी।

महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे
महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे
user

नवजीवन डेस्क

चुनाव आयोग ने शिवसेना के सिंबल 'धनुष और तीर और शिवसेना नाम पर फिलहाल रोक लगा दी है। इसके बाद उद्धव ठाकरे और शिंदे गुट में से किसी को भी यह सिंबल और शिवसेना के नाम इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं होगी। चुनाव आयोग ने यह फैसला अगामी अंधेरी पूर्व उपचुनाव को लेकर किया है। अब उद्धव या एकनाथ शिंदे दोनों में से कोई भी गुट धनुष और तीर को लेकर चुनावी मैदान में प्रत्याशी नहीं उतार सकेगा।

चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, शिवसेना नाम  और चुनाव चिह्न धनुष-बाण किया फ्रीज, दोनों गुट फिलहाल नहीं कर पाएंगे इस्तेमाल
चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, शिवसेना नाम  और चुनाव चिह्न धनुष-बाण किया फ्रीज, दोनों गुट फिलहाल नहीं कर पाएंगे इस्तेमाल
चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, शिवसेना नाम  और चुनाव चिह्न धनुष-बाण किया फ्रीज, दोनों गुट फिलहाल नहीं कर पाएंगे इस्तेमाल
चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, शिवसेना नाम  और चुनाव चिह्न धनुष-बाण किया फ्रीज, दोनों गुट फिलहाल नहीं कर पाएंगे इस्तेमाल
चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, शिवसेना नाम  और चुनाव चिह्न धनुष-बाण किया फ्रीज, दोनों गुट फिलहाल नहीं कर पाएंगे इस्तेमाल

चुनाव आयोग (ईसी) का यह फैसला आगामी अंधेरी पूर्व उपचुनाव को लेकर आया है। जिसमें शिंदे या उद्धव गुट दोनों में से कोई भी पार्टी के नाम या चुनाव चिन्ह का उपयोग नहीं कर सकेगा।


चुनाव आयोग के इस फैसले के बाद उपचुनाव के लिए दोनों गुटों को ऐसे अलग-अलग प्रतीक आवंटित किए जाएंगे। आयोग ने कहा है कि वे वर्तमान उपचुनावों के लिए चुनाव आयोग की ओर से अधिसूचित मुक्त प्रतीकों की सूची में से इन चिन्हों को चुन सकते हैं। आयोग ने दोनों समूहों को 10 अक्टूबर को दोपहर 1 बजे तक विवरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है।

चुनाव आयोग ने कहा कि अंतरिम आदेश 'दोनों प्रतिद्वंद्वी समूहों को समान रूप से रखने और उनके अधिकारों और हितों की रक्षा के लिए' पारित किया गया है। निर्वाचन आयोग ने कहा कि महाराष्ट्र उपचुनाव में शिवसेना के दोनों गुट नए नामों का चयन कर सकते हैं। दोनों गुटों को तीन-तीन नामों का सिलेक्शन करके लाे को कहा गया है। उसके बाद आयोग उन्हें अलग-अलग सिंबल देगा, जिनमें से वे एक चिन्ह चुन सकते हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia