चुनाव खत्म, लेकिन याद रहेंगे रडार से बचाते बादल, इंटरव्यू का लीक पर्चा, गुफा वाली फोटो और प्रेस कांफ्रेंस 

सातवें और आखिरी चरण की वोटिंग के साथ ही लोकसभा चुनाव रविवार को संपन्न हो गए। नतीजे 23 मई को आने हैं, और देश को उस दिन तक इंतज़ार करना चाहिए। 2019 का चुनाव बेहद अजीब साबित हुआ है। हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे प्रसंग जो पूरे चुनाव में छाए रहे।

टीवी ग्रैब
टीवी ग्रैब
user

नवजीवन डेस्क

मोदी की प्रेस कांफ्रेंस

सातवें और आखिरी चरण के लिए प्रचार शुक्रवार शाम 5 बजे (पश्चिम बंगाल में गुरुवार रात 10 बजे) खत्म हो गया था। इस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी मुख्यालय में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के सात प्रेस कांफ्रेंस की। करीब एक घंटे चली इस प्रेस कांफ्रेंस में प्रधानमंत्री मौन रहे और एकाध सवाल के जवाब में उन्होंने इशारा अमित शाह की तरफ कर दिया। इस लोकसभा चुनाव की यह अब तक की सबसे बड़ी सुर्खी रही।

चुनाव खत्म, लेकिन याद रहेंगे रडार से बचाते  बादल, इंटरव्यू का लीक पर्चा, गुफा वाली फोटो और प्रेस कांफ्रेंस 

इस प्रेस कांफ्रेंस की चौतरफा चर्चा हुई, तमाम अखबारों ने इसका जिक्र किया, लेकिन जिस तरह इस प्रेस कांफ्रेंस को द टेलीग्राफ ने प्रस्तुत किया वह अद्भुत रहा। द टेलीग्राफ ने अपने फ्रंट पेज पर इस प्रेस कांफ्रेंस को जगह दी, लेकिन कोई हेडलाइन नहीं लिखी, उसकी जगह नो हार्न का एक प्रतीक लगा दिया। इसके नीचे विभिन्न मुद्राओं में मोदी की फोटो के नीचे फिर खाली जगह छोड़ दी और लिखा कि ‘द टेलीग्राफ इस जगह को आरक्षित रख रहा है, इसे तब भरा जाएगा जब प्रधानमंत्री किसी प्रेस कांफ्रेंस में सवालों के जवाब देंगे।’

चुनाव खत्म, लेकिन याद रहेंगे रडार से बचाते  बादल, इंटरव्यू का लीक पर्चा, गुफा वाली फोटो और प्रेस कांफ्रेंस 

मोदी की केदारनाथ यात्रा

लोकसभा चुनाव का प्रचार खत्म हो चुका था, लेकिन मतदान से एक दिन पहले और मतदान वाले दिन टीवी चैनलों पर मोदी की केदारनाथ यात्रा छाई रही। विपक्षी दलों ने इसे चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करार दिया, लेकिन अपनी साख पर एक के बाद एक बट्टा लगाने वाले चुनाव आयोग को इसमें कोई खामी नजर नहीं आई।

देशभक्त गोडसे

चुनाव खत्म, लेकिन याद रहेंगे रडार से बचाते  बादल, इंटरव्यू का लीक पर्चा, गुफा वाली फोटो और प्रेस कांफ्रेंस 

मध्य प्रदेश के भोपाल से बीजेपी की उम्मीदवार और आतंकवाद की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त करार देकर राजनीतिक भूचाल पैदा किया। इसके बाद दबाव बढ़ने पर कहा कि जो पार्टी की लाइन है, वही मेरी भी लाइन है। इस पर नया बवाल खड़ा हुआ और अंतत: प्रज्ञा को माफी मांगनी पड़ी।

बंगाल में बवाल, पर आयोग को मोदी का खयाल

चुनाव खत्म, लेकिन याद रहेंगे रडार से बचाते  बादल, इंटरव्यू का लीक पर्चा, गुफा वाली फोटो और प्रेस कांफ्रेंस 

सातवें और आखिरी चरण के मतदान से ऐन पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान कोलकाता में जबरदस्त हिंसा हुई और इस उपद्रव में ईश्वरचंद विद्यासागर की प्रतिमा खंडित कर दी गई। हंगामा बढ़ा, बात चुनाव आयोग तक पहुंची और उसने ऐतिहासिक कार्रवाई करते हुए धारा 324 का इस्तेमाल किया और पश्चिम बंगाल की 9 सीटों पर प्रचार तय समयसीमा से 19 घंटे पहले ही खत्म करने के निर्देश जारी कर दिए। लेकिन इस निर्देश में आयोग ने इस बात का पूरा ध्यान रखा कि पाबंदी वाले दिन बंगाल में होने वाली पीएम मोदी की रैलियों पर असर न पड़े, इसलिए प्रचार पर पाबंदी का समय रात 10 बजे किया गया।

इंटरव्यू का पर्चा लीक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे चुनाव प्रचार के दौरान टीवी चैनलों को खूब इंटरव्यू दिए। लेकिन एक इंटरव्यू में वह हो गया जिसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी। इंटरव्यू के दौरान अतिउत्साह में टीवी चैनल ने वह दिखा दिया जिससे पोल खुल गई की पीएम मोदी के इंटरव्यू में सवाल ही नहीं, जवाब भी पहले से लिखे होते हैं।

बालाकोट के बादल और रडार

इसी टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने ऐसी बात कह दी कि दुनिया भर के रक्षा विशेषज्ञ सिर खुजाते नजर आए। पीएम मोदी ने कहा कि जब बालाकोट में हवाई हमला होना था तो उस दिन बादल थे और बारिश हो रही थी, वायुसेना इस हमले को टालना चाहती थी, लेकिन उन्होंने कहा कि बादलों के कारण भारतीय विमान रडार की रेंज में नहीं आएंगे। इस बयान पर सोशल मीडिया ने जो मजे लिए, वह देखने लायक थे।

‘मैंगो’ वाला इंटरव्यू और अक्षय कुमार की ‘अराजनीतिक’ बातें

चुनाव खत्म, लेकिन याद रहेंगे रडार से बचाते  बादल, इंटरव्यू का लीक पर्चा, गुफा वाली फोटो और प्रेस कांफ्रेंस 

फिल्मों के टीज़र या ट्रेलर की तरह हिंदी फिल्मों के अभिनेता अक्षय कुमार ने ट्वीट कर बताया कि वे कुछ ऐसा करने जा रहे हैं जिसे लेकर नर्वस हैं। लोग अभी कयास ही लगा रहे थे कि अगले दिन वे पीएम मोदी का ‘अराजनीतिक’ इंटरव्यू करते नज़र आए। इसमें उन्होंने मोदी से आम खाने जैसी व्यक्तिगत बातों पर सवाल पूछे और उनको इसके जवाब भी मिले। लेकिन इसके साथ ही अक्षय कुमार को उनकी कनाडाई नागरिकता को लेकर सोशल मीडिया पर ट्रोल भी होना पड़ा और मोदी जी का मजाक बना वह अलग।

तेजबहादुर का नामांकन

बीएसएफ से बर्खास्त सीआरपीएफ जवान तेजबहादुर ने वाराणसी लोकसभा सीट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नामांकन दाखिल किया। पहले वे आजाद उम्मीदवार थे, लेकिन बाद समाजवादी पार्टी ने उन्हें गठबंधन की तरफ से टिकट दे दिया। ऐसा होते ही चुनाव आयोग ने ऐसी-ऐसी तिकड़म लगाईं जिनका तेजबहादुर समय रहते न तो जवाब दे पाए न स्पष्टीकरण, और आयोग ने उनका नामांकन ही रद्द कर दिया। मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा लेकिन उन्हें वहां से भी कोई राहत नहीं मिली।

सर्जिकल स्ट्राइक और पुलवामा के नाम पर वोट मांगे पीएम मोदी ने

प्रधानमंत्री ने प्रचार के दौरान राजस्थान में रैली के दौरान कहा कि अपना पहला वोट पुलवामा के शहीदों के नाम पर दें। चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार सेना और जवानों के नाम पर वोट नहीं मांगा जा सकता। विपक्ष ने इसकी शिकायत आयोग से की, लेकिन आयोग ने पीएम को क्लीन चिट दे दी।

बदजुबानी और निजी हमले

पीएम मोदी ने बोफोर्स घोटाले को मुद्दा बनाते हुए स्व. प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर बेहद अपमानजनक टिप्पणी की। उनके इस बयान की चौतरफ कटु निंदा हुई।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 20 May 2019, 7:00 AM
लोकप्रिय