किसान आंदोलन के 6 महीने होने पर ‘काला दिवस’ मना रहे अन्नदाता, राकेश टिकैत बोले- सरकार नहीं सुन रही हमारी बात

राकेश टिकैत ने कहा, “आज हम काला दिवस मना रहे हैं, 6 महीने यहां पर हो गए हैं लेकिन सरकार हमारी बात नहीं सुन रही है इसलिए हम काले झंडे हाथ में लिए हुए हैं। ये सब शांतिपूर्ण तरीके से किया जाएगा. हम कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं। बाहर से कोई किसान यहां नहीं आएंगे।’

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

किसान संगठनों के आंदोलन को 6 माह पूरे हो गए हैं। आज प्रदर्शनकारी किसान ब्लैक डे मना रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत का कहना है कि, सरकार ने मांगें नहीं मानीं। काले कानून नहीं हटाए। हमारे लिए यह "काला दिन" है और ऐसे मौके पर किसान काले झंडे ही लगा रहे हैं।

उन्होंने कहा, “आज हम काला दिवस मना रहे हैं, 6 महीने यहां पर हो गए हैं लेकिन सरकार हमारी बात नहीं सुन रही है इसलिए हम काले झंडे हाथ में लिए हुए हैं। ये सब शांतिपूर्ण तरीके से किया जाएगा. हम कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं। बाहर से कोई किसान यहां नहीं आएंगे।’

कृषि कानूनों के विरोध में किसान द्वारा आज मनाए जा रहे काले दिवस को देखते हुए दिल्ली के कई जगहों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। ग्रेटर कैलाश के एसएचो ने बताया,"हम सभी गाड़ियों की जांच कर रहे हैं,चाहे वो परमिट गाड़ी भी हो क्योंकि कहीं उस गाड़ी में कोई किसान न जा रहा हो।"

फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
फोटो: विपिन

वहीं गाजीपुर बॉर्डर से जहां पर किसानों ने प्रदर्शन किया। किसानों ने पुतला जलाकर विरोध जताया। इस दौरान भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 26 May 2021, 11:01 AM