राजस्थान में राकेश टिकैत के काफिले पर हमला, बीजेपी के गुंडों पर लगाया आरोप

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन को धार देने के लिए देश भर में दौरा कर रहे किसान नेता राकेश टिकैत के काफिले पर राजस्थान में हमला हुआ है। टिकैत के काफिले पर गोलियों और पत्थरों से हमला किया गया। टिकैत ने इसके लिए बीजेपी पर आरोप लगाया है।

फाइल फोटोः पीटीआई
फाइल फोटोः पीटीआई
user

नवजीवन डेस्क

केंद्र के विवादित कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन को धार देने के लिए लगातार देश भर में महापंचायत कर रहे किसान नेता राकेश टिकैत के काफिले पर हमला हुआ है। शुक्रवार को राजस्थान के अलवर में सभा को संबोधित कर निकले टिकैत के काफिले पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला बोल दिया। हालांकि इस हमले में किसी जान का नुकसान नहीं हुआ, लेकिन टिकैत की गाड़ी के शीशे टूट गए।

राकेश टिकैत के काफिले पर राजस्थान में यह हमला तब हुआ जब वह एक सभा को संबोधित कर आगे बढ़ रहे थे। अचानक से ततारपुर चौराहे पर भीड़ ने टिकैत के काफिले पर पथराव शुरू कर दिया, जिसमें टिकैत की कार के शीशे टूट गए। इसके बाद भीड़ ने काफिले को घेर लिया, लेकिन टिकैत के साथ मौजूद राजस्थान पुलिस की टीम ने फौरन सुरक्षा घेरा बनाकर उन्हें वहां से सुरक्षित निकाल लिया। घटना के विरोध में किसानों ने गाजीपुर में एनएच-9 को जाम कर दिया

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने इस हमले के लिए बीजेपी के लोगों पर आरोप लगाया है। उन्होंने घटना के बाद क्षतिग्रस्त गाड़ी का वीडियो ट्वीट करते हुए कहा, “राजस्थान के अलवर जिले के ततारपुर चौराहा, बानसूर रोड पर भाजपा के गुंडों द्वारा जानलेवा हमला किया गया। लोकतंत्र के हत्या की तस्वीरें।

वहीं भारतीय किसान यूनियन के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने बताया कि राजस्थान में अलवर के तातारपुर चौराहे पर राकेश टिकैत पर हमला हुआ, जिसमें उनकी गाड़ी का शीशा टूट गया। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा, "हमला करने वाला कुलदीप यादव बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया का करीबी है। वह वर्तमान में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का कार्यकर्ता है। हम ऐसी घटनाओं से डरने वाले नहीं हैं।"

राकेश टिकैत पर हुए हमले के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने इसकी कड़ी निंदा की है। संयुक्त मोर्चा ने इसे कायराना हरकत बताते हुए विरोध की आवाज को डराकर दबाने की साजिश बताया है। साथ ही मोर्चा ने कहा कि ऐसी हरकतों से किसान आंदोलन कमजोर नहीं होगा, बल्कि और मजबूत होगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय