किसान आंदोलन: अटल बिहारी वाजपेयी के भाषण के पुराने वीडियो शेयर कर अब वरुण गांधी ने बीजेपी सरकार को घेरा

अटल बिहारी वाजपेयी के बहाने इस बार वरुण गांधी ने सरकार पर सीधा निशाना साधने की कोशिश की है। वरुण गांधी लगातार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर या ट्वीट करके पार्टी लाइन से अलग हटकर अपनी बात रख रहे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

लखीमपुर खीरी हिंसा और किसानों के आंदोलन को लेकर लगातार पार्टी लाइन से अलग हटकर बोलने वाले वरुण गांधी ने अब सरकार पर सीधा निशाना साधना भी शुरू कर दिया है। इस बार बीजेपी सरकार पर निशाना साधने के लिए वरुण गांधी ने बीजेपी की राजनीति के भीष्म पितामह माने जाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के वीडियो को शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा है, बड़े दिल वाले नेता के समझदार शब्द।

वरुण द्वारा ट्वीट किए गए अटल बिहारी वाजपेयी के भाषण के इस पुराने वीडियो में वर्ष 1980 लिखा है (उस समय देश में कांग्रेस की सरकार थी)। वरुण द्वारा ट्वीट किए गए इस वीडियो में उस समय अटल बिहारी वाजपेयी किसानों के मसले पर तत्कालीन सरकार को कह रहे हैं कि, दमन के तरीके छोड़ दीजिए। डराने की कोशिश मत कीजिये। किसान डरने वाला नहीं है। हम किसानों के आंदोलन का दलीय राजनीति के लिए उपयोग नहीं करना चाहते हैं, लेकिन हम किसानों की उचित मांग का समर्थन करते हैं और अगर सरकार दमन करेगी, कानून का दुरूपयोग करेगी, शांतिपूर्ण आंदोलन को दबाने की कोशिश करेगी तो किसानों के संघर्ष में कूदने में हम संकोच नही करेंगे। उनके साथ कंधे से कंधा लगाकर खड़े रहेंगे।


अटल बिहारी वाजपेयी के बहाने इस बार वरुण गांधी ने सरकार पर सीधा निशाना साधने की कोशिश की है। दरअसल,गन्ने की कीमत का मसला हो या लखीमपुर खीरी हिंसा का मामला। वरुण गांधी लगातार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर या ट्वीट करके पार्टी लाइन से अलग हटकर अपनी बात रख रहे हैं।

वरुण के इन बयानों की वजह से पार्टी के लिए लगातार असहज स्थिति पैदा हो रही है और शायद इसी वजह से इस बार उन्हें पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से भी बाहर कर दिया गया।

लेकिन पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर किए जाने के बावजूद भी लखीमपुर खीरी हिंसा को लेकर वरुण गांधी लगातार जिस अंदाज में ट्वीट कर रहे हैं उससे फिलहाल तो यही जाहिर हो रहा है कि वरुण गांधी अब पीछे हटने को तैयार नहीं है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia