योगीराज में किसानों का प्रदर्शन, उन्नाव के गोदाम में आगजनी पर बोले डीएम- ये किसानों का नहीं, उपद्रवियों का काम

उन्नाव जिले में ट्रांसगंगा सिटी के लिए ली गयी जमीन के मुआवजे को लेकर किसानों का आंदोलन जारी है। इसी बीच खबर है कि उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) के गोदाम में आग लगा दी गयी है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के उन्नाव के शुक्लागंज क्षेत्र में किसानों और पुलिस के बीच जमीन अधिग्रहण मामले को लेकर जारी बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। रविवार को भी यूपी राज्य औद्योगिक विकास निगम (यूपीसीडा) के निर्माणाधीन पावर हाउस में आग लगाने की खबर है। इस घटना के बाद से हर तरफ अफरा-तफरी मची हुई है। मौके पर पुलिस और प्रशासन के आलाधिकारी मौके पर मौजूद है।

मौके पर मौजूद डीएम का कहना, “कुछ बदमाश इस तरर की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। हम गांवों में जाएंगे और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करेंगे। यह किसानों का नहीं, उपद्रवियों का काम है।”

डीएम ने आगे कहा, “वाहन में आग लगाने के पीछे शरारती तत्वों का हाथ है। ऐसे में सवाल यह है कि अपना हक मांग रहे किसानों को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।”

बता दें कि शनिवार को किसानों और पुलिस के बीच कई घंटों तक भीषण संघर्ष चला था। यूपीसीडा अधिग्रहित 1144 एकड़ भूमि पर यूपीसीडा के कब्जे का विरोध कर रहे किसानों और पुलिस के बीच जमकर बवाल हुआ था। आक्रोशित किसानों को शांत करने के लिए पुलिस ने किसानों और महिलाओं पर लाठीचार्ज किया था। हालांकि पुलिस की इस कार्रवाई पर कांग्रेस ने कड़ी निंदा की थी।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा था, “यूपी के सीएम क्या केवल किसानों पर लच्छेदार भाषण ही दे पाते हैं? क्योंकि बीजेपी सरकार में किसानों का अपमान ही होता रहता है। उन्नाव में जमीन का मुआवज़ा माँग रहे किसानों की पुलिस ने बेरहमी से पिटाई कर दी। महिला किसानों को भी पीटा गया। किसानों की जमीन ली है तो मुआवजा तो देना ही होगा।”

बता दें कि किसानों का आरोप है कि 2005 में बगैर समझौते के उनकी जमीन को अधिगृहीत कर लिया गया था. इसका उचित मुआवजा नहीं दिया जा रहा है। इसी मांग को लेकर हजारों किसानों ने सड़क पर उतर प्रदर्शन किया।

Published: 17 Nov 2019, 2:18 PM
लोकप्रिय
next