यूपी में पूर्वांचल की राह पर किसान आंदोलन, सीतापुर महापंचायत में जुटी भारी भीड़, बीजेपी के खिलाफ हवा का संकेत

सीतापुर किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए नर्मदा बचाओ आंदोलन की मेधा पाटकर ने कहा कि अडानी और अंबानी किसानों को लूट रहे हैं। सरकार इनके साथ मिलकर किसान और किसानी को खत्म करने और गुलाम बनाने की साजिश कर रही है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश में किसान आंदोलन तेज होता जा रहा है। पश्चिमी यूपी के बाद अब किसान आंदोलन अवध होते हुए पूर्वांचल की राह पर है। इसी कड़ी में सोमवार को सीतापुर के आरएमपी इंटर कॉलेज मैदान में सयुंक्त किसान मोर्चा के बैनर तले किसान महापंचायत का आयोजन हुआ जिसमें जनसैलाब उमड़ पड़ा।

सीतापुर किसान महापंचायत में शामिल होने के लिए सीतापुर, बहराइच, पीलीभीत, लखीमपुर, शाहजहांपुर, हरदोई जिले के अलावा उत्तराखंड के रुद्रपुर जिले से भी हजारों किसान पहुंचे। किसान महापंचायत, मजदूर किसान एकता जिंदाबाद, जय जवान जय किसान के नारों से गूंजती रही। इस महापंचायत में राकेश टिकैत, मेधा पाटकर, डॉ. सुनीलम, सामाजिक कार्यकर्ता संदीप पाण्डेय समेत कई किसान नेताओं और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया।

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसान महापंचायत के जरिए ही बीजेपी सरकार के कारनामों को उजागर किया जाएगा। उन्होंने किसान आंदोलन को फसल और नस्ल से जोड़ते हुए अगले 33 महीने तक लगातार आंदोलन जारी रखने की बात करते हुए कहा कि यह आंदोलन अब लखनऊ तक पहुंचेगा और उसके बाद अलग-अलग जगहों पर किसान महापंचायत आयोजित की जाएगी। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार किसानों पर लाठी चलाए पर वह पीछे हटने वाले नहीं हैं।

प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए टिकैत ने कहा कि यूपी का गुंडा ही गुंडों का बादशाह बनकर यूपी से गुंडागर्दी खत्म करने की बात कह रहा है। योगी सरकार की चार साल की उपलब्धियों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि चार साल में गन्ने का एक भी रूपया नहीं बढ़ाया गया। इस दौरान महंगाई चरम पर पहुंच गई। अब झूठ बोलकर उपलब्धियां गिनाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि जब तक तीनों काले कानून वापस नहीं लिए जाते, यह आंदोलन लगातार चलेगा।


राकेश टिकैत ने प्रदेश के हर जनपद में किसान महापंचायत करने और 250 रूपये प्रति क्विंटल की दर से पराली का दाम दिलाने के लिए 2 सप्ताह के भीतर उत्तर प्रदेश में आंदोलन शुरू करने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि जिस तरह संयुक्त किसान मोर्चा का आंदोलन दिल्ली में चल रहा है, उसी तरह का आंदोलन लखनऊ के आसपास के जिलों में चलाया जाएगा। उन्होंने किसानों से कहा कि किसी भी दिन आंदोलन की शुरूआत हो सकती है। इसलिए इसके लिए हम सब तैयार रहें और अपने टैक्ट्रर को तैयार रखें।

किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए नर्मदा बचाओ आंदोलन की मेधा पाटकर ने कहा कि अडानी और अंबानी किसानों को लूट रहे हैं। सरकार इनके साथ मिलकर किसान और किसानी को खत्म करने और गुलाम बनाने की साजिश कर रही है। वहीं, डॉ सुनीलम ने कहा कि यदि किसानों की आत्महत्या को रोकना है, किसानों की जमीन अडानी-अंबानी की लूट से बचाना है और गन्ने का 450 रूपये प्रति क्विंटल दाम पाना है, तो संयुक्त किसान मोर्चा के साथ हर किसान को जुड़ना होगा। उन्होंने बधाई देते हुए कहा कि सीतापुर में मनरेगा की मजदूरी करने वाली महिलाओं ने हजारों की संख्या में भाग लेकर किसान महापंचायत को ऐतिहासिक बना दिया है।

सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. संदीप पांडेय ने आवारा पशुओं से फसलों को होने वाले नुकसान को लेकर उत्तर प्रदेश में जारी आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा कि योगी सरकार गायों का इंतजाम करने को तैयार नहीं है। लेकिन इसे लेकर किसानों को प्रताड़ित करने पर आमादा है। कई किसान नेताओं ने कहा कि आवारा पशुओं से छुटकारा पाने के लिए किसान आवारा सरकार हटाएंगे, जिसके बाद आवारा पशु अपने आप हट जाएंगे।

वहीं, डॉ आशीष मित्तल ने कहा कि तीनों किसान विरोधी कानून किसानों को कारपोरेट का गुलाम बनाएंगे। किसानों की फसल बोने की स्वतंत्रता खत्म हो जाएगी, बटाईदारों का स्थान कंपनियां ले लेंगी। सीतापुर में हुई इस ऐतिहासिक किसान महापंचायत का संचालन ऋचा सिंह और दलजीत सिंह ने किया। उन्होंने कहा कि सीतापुर की महापंचायत प्रदेश के अवध इलाके में किसान आंदोलन का विस्तार करेगी और इसे मजबूत बनाएगी।


गौरतलब है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश से होता हुआ यह किसान आंदोलन अब अवध पहुंच चुका है, जहां से पूर्वांचल तक जाएगा। अगले साल के शुरू में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए योगी सरकार के लिए यह किसान आंदोलन बड़ी चुनौती बनता दिख रहा है। आने वाले दिनों में पूर्वांचल के जिलों में इस आंदोलन के पहुंचने पर राज्य की राजनीति में काफी हलचल की संभावना है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia