दिल्ली की सीमाओं पर फिर तेज होगा किसान आंदोलन, 27 सितंबर को भारत बंद से पहले सिख नेता ने किया आह्वान

जसबीर सिंह विर्क ने कहा कि विभिन्न राज्यों से किसान परिवारों की कई महिलाएं समर्थन में आई हैं और आंदोलन में सक्रिय रूप से शामिल हैं। विरोध स्थलों पर उनकी उपस्थिति एक परिवार की तरह हमारी एकता को दर्शाती है और प्रशासन को पता होना चाहिए कि हम बहुत गंभीर हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारतीय सिख संगठन के अध्यक्ष जसबीर सिंह विर्क ने केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसान आंदोलन को तेज करने की जरूरत पर जोर दिया है और कहा है कि दिल्ली की सीमाओं पर ताकत बढ़ाने की जरूरत है।

27 सितंबर को भारत बंद के आह्वान से पहले पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा, "महिलाओं ने सक्रिय भूमिका निभाई है और वे आंदोलन की रीढ़ रही हैं। अब और लोगों को आंदोलन में शामिल होना चाहिए।" उन्होंने याद दिलाया कि प्रतिकूल मौसम की स्थिति में किसानों के बलिदान और बड़े पैमाने पर विरोध के दौरान जान गंवाने वाले लोगों का बलिदान बेकार नहीं जाना चाहिए।


यूपी स्थित सिख नेता जसबीर सिंह विर्क ने अधिक पुरुषों से आंदोलन में शामिल होने का आग्रह करते हुए कहा, "विभिन्न राज्यों से संबंधित किसान परिवारों की कई महिलाएं समर्थन में सामने आई हैं और आंदोलन में सक्रिय रूप से शामिल रही हैं। विरोध स्थलों पर उनकी उपस्थिति एक परिवार की तरह हमारी एकता को दर्शाती है और प्रशासन को पता होना चाहिए कि हम बहुत गंभीर हैं।"

विर्क ने आगे कहा, "हमने मुजफ्फरनगर में हाल ही में किसान महापंचायत को अपना पूरा समर्थन दिया और अब हम चाहते हैं कि 27 सितंबर को 'भारत बंद' भी सफल हो। हालांकि, लोगों को 'बंद' के दौरान शांतिपूर्ण तरीके से विरोध करना चाहिए और उनके परिसरों को बंद रखना चाहिए।"


किसान नेता ने कहा कि खासकर किसानों को किसी भी तरह के उकसावे और हिंसा से दूर रहने की सलाह दी गई है। उन्होंने कहा कि वह विभिन्न राज्यों की यात्रा कर रहे हैं और समुदाय के सदस्यों के साथ नियमित बैठकें कर रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia