कृषि कानून: मोदी सरकार की कभी सहयोगी रही अकाली का प्रदर्शन, कहा- सरकार ने किसानों के साथ किया विश्वासघात

दिल्ली के विभिन्न स्थानों पर दिल्ली पुलिस ने बेरिगेट लगाकर रास्ते बंद कर रखे हैं। प्रदर्शनकारियों ने कानून को वापसी करने की मांग की वहीं केंद्र के खिलाफ नारेबाजी भी की।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

कृषि कानून के एक साल पूरे होने पर राजधानी में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने दिल्ली के रकाबगंज रोड पर अपना विरोध प्रदर्शन ( ब्लैक फ्राइडे प्रोटेस्ट मॉर्च) शुरू कर दिया है। शिअद प्रमुख सुखबीर बादल और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के नेतृत्व में शिरोमणि अकाली दल का यह विरोध मार्च गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब रोड से संसद भवन की ओर निकाला जा रहा है, लेकिन फिलहाल प्रदर्शनकारी सड़क पर ही बैठे हुए हैं।

फिलहाल प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने भी सुरक्षा बढ़ा दी है। दिल्ली के विभिन्न स्थानों पर दिल्ली पुलिस ने बेरिगेट लगाकर रास्ते बंद कर रखे हैं। प्रदर्शनकारियों ने कानून को वापसी करने की मांग की वहीं केंद्र के खिलाफ नारेबाजी भी की। दूसरी ओर दिल्ली पुलिस के अनुसार, विरोध प्रदर्शन के लिए कोई इजाजत नहीं दी गई है।


प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली मेट्रो रेल कॉपोर्रेशन ने ट्वीट कर बताया है कि पंडित श्रीराम शर्मा और बहादुरगढ़ सिटी के एंट्री/एग्जिट गेट बंद कर दिए गए हैं।

इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने कहा कि, मैं शुक्रिया अदा करना चाहती हूं, हम सच की लड़ाई के लिए इतने लोग हमारे साथ आये हैं। सरकार कहती थी सबका साथ सबका विश्वास, लेकिन उन्होंने किसानों के साथ विश्वास घात किया है।

उन्होंने कहा, लगातार एक साल हम इस लड़ाई को लड़ते रहे। वो नौजवानों , अपनी बहनों का शुक्रिया करेंगी जिन्होंने इस लड़ाई में उन्होंने पूरा साथ दिया। एक साल निकल गया यदि यह कानून वापस नहीं हुए तो 2024 दूर नहीं है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia