हरियाणा में ओमिक्रॉन के 6 केस मिलने पर खौफ, भीड़भाड़ वाली जगहों में बिना टीका प्रवेश पर पाबंदी

विधानसभा में विपक्ष के खट्टर सरकार को कोरोना की तैयारियों को लेकर घेरने पर सरकार ने माना कि राज्‍य में 980 डॉक्टरों की कमी है, जिन्‍हें जल्द भर्ती कर लिया जाएगा। इसके अलावा चिंता की बात ये है कि अभी राज्‍य के 59 फीसदी लोगों को ही टीके की दोनों डोज लगी है।

फाइल फोटोः सोशल मीडिया
फाइल फोटोः सोशल मीडिया
user

धीरेंद्र अवस्थी

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे का खौफ अब साफ तौर पर दिखने लगा है। हरियाणा सरकार ने एक जनवरी से राज्‍य में भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में बिना वैक्‍सीनेशन के प्रवेश पर बैन लगा दिया है। राज्‍य में अभी तक ओमिक्रान के छह मामलों की पुष्टि हुई है। राज्‍य में कोरोना की दूसरी लहर के पीक में 15 हजार मरीज हर दिन मिल रहे थे। अगर हम यह मान लें कि नया वैरिएंट तीन गुणा अधिक रफ्तार से फैल रहा है तो प्रतिदिन मरीजों का पीक 45 हजार तक जा सकता है। इससे हम समझ सकते हैं कि हालात कितने भयावह हो सकते हैं।

विधानसभा में ओमिक्रॉन को लेकर आए ध्‍यानाकर्षण प्रस्‍ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अनिल विज ने ऐलान किया कि एक जनवरी, 2022 से हरियाणा में भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों जैसे कि रेस्टोरेंट्स, मॉल, बैंक, कार्यालय इत्यादि जगहों में कोरोना की दूसरी डोज नहीं लगवाने वालों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। मंत्री ने कहा कि ओमिक्रॉन की चिंता वाजिब है और इसके लिए डब्ल्यूएचओ के साथ-साथ पूरी दुनिया चिंता कर रही है। यह कितना खतरनाक है इसका अभी तक पूरी तरह से पता नहीं लगा है। कोरोना से स्‍वस्‍थ्‍य विभाग के भी 28 लोगों ने जान गवाई है।


विपक्ष ने सरकार को कोरोना की तैयारियों को लेकर घेर लिया, जिस पर सरकार ने माना कि राज्‍य में 980 डॉक्टरों की कमी है, जिन्‍हें जल्द भर्ती कर लिया जाएगा। बूस्टर डोज के संबंध में सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया है। राज्य के सभी एसपी और पुलिस आयुक्त को वायरलेस मैसेज किया गया है कि जो लोग मास्क नहीं पहन रहे हैं उनका 500 रुपये का चालान किया जाए। डीसी को आदेश दिए गए हैं कि किसी अधिकारी के माध्यम से सोशल गैदरिंग होने पर रैंडम चेकिंग की जाए।

चिंता की बात ये है कि अभी राज्‍य के 59 फीसदी लोगों को ही वैक्‍सीन की दोनों डोज लगी है। सरकार ने इस बात की तस्‍दीक की है कि अभी तक हरियाणा में ओमीक्रॉन के 6 केस आए हैं। तीन अंतरराष्ट्रीय यात्री, जो गुरुग्राम के चिन्हित किये गए हैं, उन्‍हें दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती किया गया है। पहला केस 23 वर्षीय समर्थ गुलाटी का है, जो यूके का निवासी है और दुबई में तीन दिन रहने के बाद भारत पहुंचा है। वह गुरुग्राम में अपने रिश्तेदार से मिलने जा रहा था। हवाई अड्डे पर उसका परीक्षण सकारात्मक पाया गया।


दूसरा केस 18 वर्षीय अभिनन्दन का है। यह विद्यार्थी है और यूके से वापस अपने घर आ रहा था। हवाई अडडे पर वह पॉजिटिव पाया गया। उसे एलएनजेपी अस्पताल में रखा गया है। तीसरा मामला 55 साल के प्रवीन कुमार का है। वह यूके से गुरुग्राम में अपने घर आ रहा था। उसे मैक्‍स अस्पताल साकेत में दाखिल किया गया है। कनाडा से लौटी निकिता साहनी पॉजिटिव पाई गई हैं। उनके दो प्राथमिक संपर्कों, मां और चाची का भी कोविड परीक्षण किया गया है। इनके अलावा 22,918 अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों को निगरानी में लिया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia