इंदौर में लिंचिंग का शिकार होने से बचे चूड़ी वाले पर ही FIR, पॉक्सो एक्ट समेत कई संगीन आरोपों में केस दर्ज

रविवार को इंदौर में भीड़ द्वारा पीटे जाने के बाद पीड़ित ने पुलिस थाने में दर्ज शिकायत में बताया कि वह उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले का निवासी है और चूड़ी बेचने आया था, इसी दौरान पांच-छह लोगों ने उसका नाम पूछा और जब उसने नाम बताया तो उसकी पिटाई शुरू कर दी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मध्य प्रदेश के इंदौर में एक अल्पसंख्यक चूड़ी वाले के साथ मारपीट के मामले में नया मोड़ आ गया है। दरअसल इंदौर पुलिस ने अब मॉब लिंचिंग का शिकार होते-होते बचे फरियादी को ही आरोपी बना दिया है। पुलिस ने पीड़ित को आरोपी बनाते हुए उसके खिलाफ पॉक्सो एक्ट समेत 9 गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया है। उसके खिलाफ नाबालिग बच्ची के साथ छेड़खानी करने और फर्जी पहचान पत्र रखने जैसे आरोप लगाए गए हैं।

पुलिस ने छठी क्लास की छात्रा की शिकायत पर उसके खिलाफ केस दर्ज किया है। आरोप है कि इन्दौर के बाणगंगा थाना क्षेत्र के गोविंद नगर में चूड़ी पहनाने के लिए मुस्लिम युवक नाम बदलकर गया था और उसने नाबालिग छात्रा से छेड़खानी की कोशिश की। छात्रा ने रिपोर्ट में लिखवाया है कि 22 अगस्त की दोपहर चूड़ी बेचने एक लड़का आया था, जिसने अपना नाम गोलू, पिता मोहन सिंह बताया। घर पर वह अपनी मां के साथ थी।


छात्रा का आरोप है कि चूड़ी लेने के बाद मां जब पैसे लेने अंदर गई तो युवक ने बुरी नीयत से उसका हाथ पकड़ लिया और उसके साथ छेड़छाड़ करने लगा। वह चिल्लाई तो आसपास के लोग आ गए। इस पर वह भागने लगा। उसके झोले से दो आधार कार्ड मिले हैं। एक पर उसका नाम असलम और दूसरे पर तस्लीम पिता मोहर अली लिखा था। उसके पास एक अधजला वोटर आईडी कार्ड भी मिला, जिस पर उसके पिता का नाम मोहन सिंह लिखा था। उसके खिलाफ पुलिस ने थाना बाणगंगा में प्रकरण दर्ज कर लिया है।

इससे पहले चूड़ी बेचने वाले युवक की पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस ने मारपीट में शामिल तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। तीसरा मुख्य आरोपी विवेक व्यास ग्वालियर से पकड़ा गया है। वो दिल्ली भागने की फिराक में था। इससे पहले गिरफ्तार राकेश कुमार, राजकुमार भटनागर और विवेक व्यास ही युवक को पीटने में शामिल थे।

बता दें कि एक दिन पहले इंदौर में चूड़ी बेचने वाले युवक की कुछ लोगों द्वारा पिटाई किए जाने का वीडियो वायरल होने पर विवाद खड़ा हो गया था। वायरल वीडियो में कुछ लोग एक चूड़ी बेचने वाले को पीट रहे हैं। यह घटना रविवार की बताई जा रही है। पीड़ित युवक ने पुलिस थाने में दर्ज कराई शिकायत में बताया कि वह उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले का निवासी है और रविवार को बाणगंगा थाने के गोविंद नगर में चूड़ी बेचने गया था, इसी दौरान पांच-छह लोगों ने उसका नाम पूछा और जब उसने अपना नाम बताया तो उसकी पिटाई शुरू कर दी।


पीड़ित का आरोप है कि उसके पास दस हजार नगद थे और इसके अलावा चूड़ियां आदि भी थीं। उसका मोबाइल भी छीन लिया गया, आधार कार्ड व अन्य दस्तावेजों सहित कुल 25 हजार रुपए का सामान लूट लिया गया और बार-बार सांप्रदायिक गालियां दी गईं। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। लेकिन आज पीड़ित के खिलाफ ही केस दर्ज होने से मामले में नया मोड़ आ गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia