उत्तर प्रदेश में दो पत्रकारों पर एफआईआर दर्ज, 'फेक' न्यूज फैलाने का आरोप

दो नाबालिग दलित लड़कियों के साथ बलात्कार और उनकी हत्या के बारे में ट्विटर पर फेक न्यूज फैलाने के आरोप में उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में दो पत्रकारों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

रवि प्रकाश

दो नाबालिग दलित लड़कियों के साथ बलात्कार और उनकी हत्या के बारे में ट्विटर पर फेक न्यूज फैलाने के आरोप में उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में दो पत्रकारों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। ये एफआईआर धारा सिंह यादव नामक शख्स और एक समाचार चैनल के पत्रकार के खिलाफ दर्ज की गई है। इसकी शिकायत असोथर थाना के प्रभारी रणजीत बहादुर सिंह ने की थी।

सिंह ने अपनी प्राथमिकी में आरोप लगाया कि जब वह चिचनी गांव में गश्त पर थे, तब उन्हें पता चला कि एक निजी चैनल के पत्रकार और धारा सिंह यादव ट्विटर पर दो नाबालिग लड़कियों की हत्या की झूठी खबर फैला रहे हैं।

उन्होंने कहा, ''दोनों लड़कियों की मौत एक तालाब में डूबने से हो गई थी। लेकिन पत्रकार दलित और अन्य समुदायों के बीच दुश्मनी पैदा करने के लिए फर्जी खबरें फैला रहे थे। पत्रकार ट्विटर पर आधारहीन खबरें फैला रहे थे कि लड़कियों के हाथ और पैर बंधे हुए मिले थे और उनके साथ बलात्कार किया गया और उनकी आंखें निकाल ली गईं। इससे दलित और अन्य समूहों के बीच दुश्मनी बढ़ रही थी।

उन्होंने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला दिया जिसमें कहा गया कि नाबालिग लड़कियों की डूबने से मौत हो गई और उनकी आंखों और शरीर के अन्य हिस्सों को कोई नुकसान नहीं हुआ। बता दें कि चिचनी में एक तालाब में दो नाबालिग बहनें मृत पाई गईं थी और परिवार ने बलात्कार और हत्या का आरोप लगाया था, लेकिन पुलिस ने कहा था कि लड़कियों की मौत डूबने से हुई है।

आईएएनएस के

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 19 Nov 2020, 12:42 PM