बिहार में बाढ़ ने रोकी ट्रेनों की रफ्तार, रेल पुल तक पानी पहुंचने से कई ट्रेनें रद्द, कई के मार्ग बदले

बिहार में गंगा, कोसी, गंडक सहित सभी प्रमुख नदियां विभिन्न स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। राज्य के करीब 13 जिले बुरी तरह बाढ़ प्रभवित हैं। कई इलाके ऐसे भी हैं जहां से बाढ़ का पानी उतर गया था, पर एक बार फिर नए इलाकों में बाढ़ का पानी आ गया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार में प्रमुख नदियों के जलस्तर में हुई वृद्धि के बाद बाढ़ ने एक बार फिर कहर बरपाना शुरू कर दिया है। इस बीच, समस्तीपुर रेल मंडल के समस्तीपुर-दरभंगा रेलखंड पर हायाघाट और थलवारा स्टेशन के बीच बाढ़ का पानी रेल पुल पर आ जाने के कारण इस मार्ग से चलने वाली कई ट्रेनों का परिचालन रद्द कर दिया गया है, जबकि कई ट्रेनों के मार्ग में परिवर्तन किया गया है।

पूर्व-मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि समस्तीपुर रेल मंडल के समस्तीपुर-दरभंगा रेलखंड के मध्य हायाघाट और थलवारा स्टेशन के बीच स्थित रेल पुल संख्या 16 (किमी 22/6-8) के निकट बाढ़ का पानी आ जाने के कारण यात्री सुरक्षा और संरक्षा के मद्देनजर थलवारा-हायाघाट रेलखंड से गुजरने वाली ट्रेनों के परिचालन में बदलाव किया गया है।


उन्होंने बताया कि एक सितंबर को जयनगर-पटना, पटना-जयनगर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द कर दिया गया है, जबकि भागलपुर-जयनगर स्पेशल ट्रेन, जयनगर-भागलपुर, समस्तीपुर-दरभंगा, दरभंगा-समस्तीपुर, समस्तीपुर-जयनगर, जयनगर-समस्तीपुर, मनिहारी-जयनगर, जयनगर-मनिहारी स्पेशल ट्रेन भी बुधवार को नहीं चलेंगी।

इसके अलावे जयनगर-राजेंद्र नगर टर्मिनल, राजेंद्र नगर टर्मिनल-जयनगर स्पेशल ट्रेन, सहरसा-राजेंद्र नगर टर्मिनल, राजेंद्र नगर टर्मिनल-सहरसा स्पेशल ट्रेन और दरभंगा-अहमदाबाद स्पेशल ट्रेन का परिचालन भी रोक दिया गया है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा कई ट्रेनों का आंशिक समापन भी किया गया है। कुमार ने कहा कि बुधवार को इस मार्ग से चलने वाली करीब 10 ट्रेनों के मार्ग में भी परिवर्तन किया गया है।


गौरतलब है कि बिहार की गंगा, कोसी, गंडक सहित सभी प्रमुख नदियां विभिन्न स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। बाढ़ आने के कारण राज्य के करीब 13 जिले बुरी तरह प्रभवित हैं। राज्य में कई इलाके ऐसे भी हैं जहां से बाढ़ का पानी उतर गया था, लेकिन अब एक बार फिर बाढ़ का पानी नए इलाकों में फैलने लगा है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia