एमनेस्टी इंडिया के पूर्व प्रमुख आकार पटेल को बेंगलुरु एयरपोर्ट पर रोका गया, व्याख्यान देने जा रहे थे अमेरिका

आकार पटेल नरेंद्र मोदी सरकार और हिंदुत्व की राजनीति के प्रखर आलोचक रहे हैं और उन्होंने हाल ही में प्रधानमंत्री के शासन का विश्लेषण करने वाली एक पुस्तक प्रकाशित की है। उन्हें और एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया दोनों को कई बार सरकारी मशीनरी ने निशाना बनाया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के पूर्व प्रमुख और मानवाधिकार कार्यकर्ता आकार पटेल को कोर्ट की अनुमति के बावजूद बेंगलुरु हवाई अड्डे पर अमेरिका जाने से रोक दिया गया है। पटेल को उनके खिलाफ सीबीआई के लुकआउट सर्कुलर का हवाला देते हुए रोका गया है। हालांकि गुजरात की एक अदालत ने पटेल को कुछ शर्तों के साथ अमेरिका जाने की अनुमति दी थी।

इस घटना को लेकर ट्विटर पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए आकार पटेल ने पूछा है कि उन्हें क्यों रोका गया। पटेल ने कहा है कि उन्हें अपने खिलाफ लुकआउट सर्कुलर के बारे में पता नहीं है और इस बात पर आश्चर्य है कि सीबीआई को किसी ऐसे व्यक्ति के खिलाफ एक लुकआउट सर्कुलर जारी करने की क्यों आवश्यकता होगी जिसके ठिकानों के बारे में उन्हें पता था।


बता दें कि एक हफ्ते के भीतर ही यह दूसरी घटना है। हाल ही में पत्रकार राणा अय्यूब को 1 अप्रैल को अंतिम समय में प्रवर्तन निदेशालय के सामने पेश होने का निर्देश देने वाला सम्मन जारी कर यूके की यात्रा करने से रोक दिया गया था। हालांकि दिल्ली उच्च न्यायालय ने बाद में अय्यूब को यात्रा करने की अनुमति दी थी।

राणा अय्यूब की तरह आकार पटेल भी नरेंद्र मोदी सरकार के लगातार आलोचक रहे हैं और उन्होंने हाल ही में प्रधानमंत्री के शासन का विश्लेषण करने वाली एक पुस्तक प्रकाशित की है। उन्हें और एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया दोनों को कई बार सरकारी मशीनरी ने निशाना बनाया है।

यही कारण है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा विदेशी योगदान (विनियमन) अधिनियम और भारतीय दंड संहिता का उल्लंघन करने का आरोप लगाने के बाद सीबीआई ने 2019 में एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया उनसे जुड़े तीन संगठनों के खिलाफ मामला दर्ज किया। इसके तुरंत बाद प्रवर्तन निदेशालय ने इसकी एक अलग जांच शुरू कर दी थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia