उत्तराखंड के पूर्व CM तीरथ रावत ने अपनी ही सरकार पर उठाए सवाल, कहा-पहले 20% कमीशन फिर होता है यहां काम

उत्तराखंड के पूर्व सीएम तीरथ रावत का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वो प्रदेश में चल रही कमीशनखोड़ी का खुलासा करते नजर आ रहे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तराखंड के पूर्व सीएम और पौड़ी लोकसभा क्षेत्र से सांसद तीरथ सिंह रावत अपनी ही पार्टी के प्रति हमलावर हुए हैं। तीरथ सिंह रावत धामी सरकार पर ही सवाल उठा रहे हैं। तीरथ रावत का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वो प्रदेश में चल रही कमीशनखोड़ी का खुलासा करते नजर आ रहे हैं। उनका कहना है कि राज्य में बिना कमीशन दिए कोई काम नहीं कराया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें- उत्तराखंड: तीरथ सिंह रावत के सीएम बनने के बाद वो बयान जिन पर खूब मचा था बवाल, जानें यहां

वीडियो में बीजेपी नेता तीरथ सिंह रावत एक कमरे में बैठे दिखाई दे रहे हैं और प्रदेश में ‘कमीशनखोरी’ पर चिंता व्यक्त कर रहे हैं।

वीडियो में क्या कह रहे हैं तीरथ सिंह रावत ?

तीरथ सिंह रावत कह रहे हैं कि मैं मुख्यमंत्री रह चुका हूं और शायद मुझे यह नहीं कहना चाहिए, लेकिन मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं होती है कि जब हम उत्तर प्रदेश से अलग हुए, तो काम करवाने के लिए वहां पर 20 प्रतिशत तक कमीशन देना पड़ता था।’ उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश से अलग होने के बाद कमीशन को शून्य पर आ जाना चाहिए था, लेकिन दुर्भाग्य से यह आज भी जारी है और हमने 20 प्रतिशत कमीशन के साथ शुरू किया है।

उत्तराखंड के पूर्व सीएम तीरथ सिंह रावत ने कहा मुझे बताया गया है कि यहां बिना कमीशन दिए कोई कुछ नहीं करवा सकता। उन्होंने कहा, ‘कमीशनखोरी उत्तर प्रदेश में प्रचलित थी और दुर्भाग्य से यह अब उत्तराखंड में भी जारी है। रावत ने हालांकि कहा कि इसके लिए कोई एक व्यक्ति जिम्मेदार नहीं है। उन्होने कहा, यह एक मानसिकता है। यह तभी ठीक होगी जब हमारे अंदर यह भाव आएगा कि यह अपना प्रदेश है, अपना परिवार है।’

कई बार विवादित बयान दे चुके हैं तीरथ रावत

पूर्व मुख्यमंत्री का विवादों से पुराना नाता रहा है। पिछले साल मार्च में रावत ने देहरादून में एक वर्कशॉप में महिलाओं के रिप्‍ड जींस पहनने पर आपत्ति जताई थी। उन्होंने कहा था, 'आजकल महिलाएं भी फटी जींस पहनती हैं। उनके घुटने दिखते हैं, ये कैसे संस्कार हैं? ये संस्कार कहां से आ रहे हैं। इससे बच्चे क्या सीख रहे हैं और महिलाएं आखिर समाज को क्या संदेश देना चाहती हैं। फटी जींस हमारे समाज के टूटने का मार्ग प्रशस्त कर रही है। इससे हम बच्चों को बुरे उदाहरण दे रहे हैं, जो उन्हें नशीले पदार्थों के सेवन की ओर लेकर जाते हैं। अब हम अपने बच्चों को 'कैंची से संस्कार' दे रहे हैं।' हालांकि उन्होंने बाद में इस बयान के लिए माफी भी मांगी थी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;