मुझे तो बोलने की सलाह देते थे मोदी जी, अब खुद क्यों चुप रहते हैं - मनमोहन सिंह का सवाल

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि नरेंद्र मोदी जी उन्हें बोलने की सलाह दिया करते थे, लेकिन अब सभी बड़े मुद्दों पर चुप रहते हैं। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी को अपनी ही सलाह पर अमल करना चाहिए।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उन्नाव और कठुआ गैंगरेप मामलों पर पीएम नरेंद्र मोदी की लंबी चुप्पी पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा है कि बोलने की जो सलाह मोदी जी उन्हें दिया करते थे, अब मोदी जी को वह सलाह खुद पर लागू करना चाहिए। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी के लिए कहा, “उन्हें अपनी उस सलाह को खुद फॉलो करना चाहिए जो वो मुझे देते थे, और अधिक बोलें।” पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि वे खुश हैं कि आखिरकार पिछले शुक्रवार भीमराव अंबेडकर की जयंती पर उन्होंने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि भारत की बेटियों को न्याय जरूर मिलेगा और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।”

मनमोहन सिंह से जब यह पूछा गया कि आप बीजेपी के उस व्यवहार को क्या कहेंगे, जब वे आप पर तंज कसते हुए आपको मौनमोहन सिंह बुलाते थे। इस पर पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, “इस प्रकार की टिप्पणियां पूरी जिंदगी मेरे साथ रहेंगी, लेकिन मुझे लगता है कि पीएम नरेंद्र मोदी को वो सलाह माननी चाहिए जो वो अक्सर मुझे देते थे। मीडिया रिपोर्ट्स से पता चला कि वे मेरे न बोलने की आलोचना करते थे। मैं यह महसूस करता हूं कि जो सलाह वे मुझे दे रहे थे, उस पर उन्हें खुद अमल करना चाहिए।”

इसके बाद मनमोहन सिंह ने कहा, “मुझे लगता है कि जो प्रशासन में होते हैं, उन्हें समय पर अपने अनुयायियों की अगुआई करने के लिए बोलना चाहिए।”

गौरतलब है 2012 दिल्ली गैंगरेप के दौरान जब कांग्रेस की सरकार थी, तब बीजेपी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के चुप रहने को लेकर उन पर काफी तंज कसे थे। इस पर मनमोहन सिंह ने कहा कि दिल्ली गैंगरेप में कांग्रेस पार्टी और उनकी सरकार द्वारा रेप जैसे अपराध को लेकर कानून में जो बदलाव किया जा सकता था और जो कार्रवाई की जा सकती थी, वो उन्होंने की थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia