इलेक्टोरल बॉन्ड पर RBI के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल ने तीन बार दी थी चेतावनी- बढ़ेगा भ्रष्टाचार, नोटबंदी हो जाएगा बेकार

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल ने भी इलेक्टोरल बॉन्ड और इसके प्रभाव को लेकर तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली को तीन बार चेताया था। उन्होंने कहा था की इसकी वजह से न सिर्फ भ्रष्टाचार बढ़ेगा बल्कि नोटबंदी का मकसद भी फेल हो जाएगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

इलेक्टोरल बॉन्ड को लेकर बवाल मचा हुआ है। इस पर नित्य नए खुलासे हो रहे हैं। पहले खबर आई कि रिजर्व बैंक ने इलेक्टोरल बॉन्ड पर आपत्ति जताई थी, वहीं अब कहा जा रहा है कि रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल ने भी इलेक्टोरल बॉन्ड और इसके प्रभाव को लेकर तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली को तीन बार चेताया था। आरबीआई के पूर्व गवर्नर ने कहा था कि इलेक्टोरल बॉन्ड की वजह से न सिर्फ भ्रष्टाचार बढ़ेगा बल्कि नोटबंदी का मकसद भी फेल हो जाएगा। यह बात टेलीग्राफ में प्रकाशित एक रिपोर्ट में कही गई है।

टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक उर्जित पटेल ने वर्ष 2017 में तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली को इस बारे में एक बार नहीं बल्कि तीन-तीन बार पत्र लिखा था। लेकिन उनकी बात को नहीं माना गया। उर्जित ने कहा था कि केंद्रीय बैंक के अलावा किसी अन्य बैंक को इलेक्टोरल बॉन्ड जारी करने की अनुमति देने में खतरा है। इस पूरी कवायद से नोटबंदी से मिलने वाला फायदा भी खत्म हो जाएगा।


आरबीआई को सीजीएम ने बजट पूर्व सलाह में वित्त मंत्रालय को इलेक्टोरल बॉन्ड के खिलाफ चेतावनी दी थी। पूर्व गवर्नर पटेल ने इस मामले में साल 2017 में जुलाई के अंत में जेटली से मुलाकात के बाद सीधे हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया था। साल 2017 में अगस्त से सितंबर के दौरान वित्त मंत्रालय रिजर्व बैंक पर इलेक्टोरल बॉन्ड स्कीम का मसौदा तैयार करने के लिए जोर डाल रहा था। उस दौरान ही पटेल ने वित्त मंत्रालय को ये तीन पत्र लिखे थे।

बता दें कि 2017-18 में इलेक्टोरल बॉन्ड स्कीम की घोषणा की गई थी। तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साल 2017-18 के अपने बजट भाषण में इस स्कीम की घोषणा की थी। इससे पहले मीडिया में इस आशय की भी खबरें प्रकाशित हुई थी कि इलेक्टोरल बॉन्ड स्कीम की घोषणा से पहले विधि मंत्रालय और मुख्य चुनाव आयुक्त की तरफ से भी विरोध जताया गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia