बुल्ली बाई एप मामले में चौथा आरोपी गिरफ्तार, मुंबई पुलिस ने ओडिशा से नीरज सिंह को पकड़ा

मुंबई पुलिस के अलावा मामले की समानांतर जांच कर रही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने भी दो लोगों को गिरफ्तार किया है। स्पेशल सेल ने मामले के मुख्य आरोपी नीरज बिश्नोई और सुल्ली डील के मुख्य आरोपी ओंकारेश्वर ठाकुर को गिरफ्तार किया है।

फाइल फोटोः सोशल मीडिया
फाइल फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

सोशल मीडिया पर चर्चित मुस्लिम महिलाओं की ऑनलाइन निलामी करने वाले बुल्ली बाई ऐप मामले में मुंबई पुलिस ने चौथे आरोपी को ओडिशा से गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान नीरज सिंह के रूप में हुई है। मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, "नीरज बुल्ली बाई ऐप के जरिए साजिश की योजना बनाने और उसे अंजाम देने में शामिल था। हम उसे संबंधित अदालत में पेश करेंगे और उसकी कस्टडी रिमांड की मांग करेंगे।"

इससे पहले इस मामले में मुंबई पुलिस अलग-अलग राज्यों से विशाल झा, श्वेता सिंह और मयंक रावल को गिरफ्तार कर चुकी है। वहीं, दिल्ली पुलिस ने भी बुल्ली बाई मामले में कुछ लोगों को गिरफ्तार किया है। मुंबई पुलिस और दिल्ली पुलिस दोनों इस मामले की जांच कर रही है।

सबसे पहले इस मामले में मुंबई पुलिस ने बेंगलुरू से विशाल झा नाम के शख्स को गिरफ्तार किया था। उसके बाद चार जनवरी को उत्तराखंड निवासी श्वेता सिंह को गिरफ्तार किया गया। वह दूसरी अरोपी थी और मयंक रावल विवाद के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया तीसरा आरोपी था।


मुंबई पुलिस के अलावा मामले की समानांतर जांच कर रही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने भी दो गिरफ्तारियां की हैं। स्पेशल सेल ने मामले के मुख्य आरोपी नीरज बिश्नोई और सुल्ली डील के मुख्य आरोपी ओंकारेश्वर ठाकुर को गिरफ्तार किया है।

बता दें कि 1 जनवरी को बुल्ली बाई ऐप ने पत्रकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, छात्रों और प्रसिद्ध हस्तियों सहित एक विशेष धर्म की कई महिलाओं की तस्वीरें पोस्ट की थी। यह सुल्ली डील के विवाद के छह महीने बाद हुआ। विशाल झा बुल्ली बाई एप के फॉलोवर्स में से एक था, जिसने पुलिस को टीम तक पहुंचाया।

सुल्ली डील्स को स्थान प्रदान करने वाले गिट्हब ने बुल्ली बाई ऐप को भी होस्ट किया। हालांकि बाद में गिटहब ने यूजर को अपने होस्टिंग प्लेटफॉर्म से हटा दिया था। लेकिन तब तक बुल्ली बाई ने देश भर में विवाद खड़ा कर दिया था। बुल्ली बाई ऐप को एटदरेटबुल्ली बाई नाम के एक ट्विटर हैंडल द्वारा भी प्रचारित किया जा रहा था, जिसमें एक खालिस्तानी समर्थक की डिस्प्ले तस्वीर थी। इस ट्विटर हैंडल ने दावा किया कि महिलाओं को ऐप से बुक किया जा सकता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia