राजस्थान में कल नहीं होगा वैक्सीनेशन, गहलोत ने कहा- वैक्सीन उपलब्धता पर गलत बयान दे रहे हैं अमित शाह और रविशंकर प्रसाद

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना वैक्सीन को लेकर स्थिति स्पष्ट की है। उन्होंने केंद्र द्वारा वैक्सीन के मुद्दे पर भ्रामक जानकारी देने की बात कही है। उन्होंने पूरी स्थिति सामने रखते हुए कहा है कि केंद्र सरकार राजनीति के बजाए पर्याप्त संख्या में वैक्सीन उपलब्ध कराए।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि केेंद्र सरकार को सार्वजनिक पर वैक्सीन डोज की स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। उन्होंने कहा है कि कई राज्यों में वैक्सीन खत्म हो रही हैं और उसकी तस्वीरें भी सामने आ रही हैं। उन्होंने कहा कि "वैक्सीनेशन के कार्य में कोई राजनीति नहीं की जा रही है लेकिन तथ्यों से स्पष्ट है कि अनेक राज्यों में वैक्सीन की कमी है। केन्द्र सरकार को सार्वजनिक तौर पर वैक्सीन डोजेज की स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।"

अशोक गहलोत ने आंकड़े सामने रखते हुए कहा कि, "टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक 8 अप्रेल को आंध्र प्रदेश में 1.2 दिन, बिहार में 1.6 दिन, उत्तर प्रदेश में 2.5 दिन, उत्तराखंड में 2.9 दिन, उडीसा में 3.2 दिन, मध्य प्रदेश में 3.5 दिन और महाराष्ट्र में 3.8 दिन की डोजेज ही शेष थी।"

अशोक गहलोत ने राजस्थान में वैक्सीन की कमी बताते हुए कहा कि केंद्र सरकार से वैक्सीन की अगली खेप 12 अप्रैल को आएगी, इसके राजस्थान में कल कई जिलों में वैक्सीनेशन का कार्य बंद करना पड़ेगा। 3.83 लाख डोजेज से भी एक दिन से अधिक वैक्सीनेशन नहीं किया जा सकेगा।

उन्होंने आंकड़े देते हुए कहा कि, "राजस्थान में 8 अप्रेल 4.65 लाख, 7 अप्रेल को 5.81 लाख, 6 अप्रेल को 4.8 लाख एवं 5 अप्रेल को 5.4 लाख वैक्सीन डोजेज लगाई गईं। 9 अप्रेल की सुबह प्रदेश में करीब 9.70 लाख वैक्सीन डोजेज शेष थीं। प्रतिदिन करीब 5.18 लाख वैक्सीन औसतन राजस्थान में लगाई जा रही हैं।"


राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि, "केन्द्रीय मंत्री अमित शाह और रविशंकर प्रसाद द्वारा दिया गया राज्यों में वैक्सीन की कमी ना होने का बयान भी तथ्यात्मक रूप से पूर्णत: गलत है। राजस्थान कोरोना प्रबंधन एवं वैक्सीनेशन में शुरुआत से अग्रणी रहा है। 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का वैक्सीनेशन करने में राजस्थान सभी राज्यों में सबसे आगे है।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;