गोवा: सड़कों पर बने गड्ढों पर सोशल मीडिया में बना रहा मीम्स, विपक्षी दलों ने सावंत सरकार पर बोला हमला

गोवा में भारी बारिश से सड़कों पर बने गड्ढे राजनीतिक आलोचनाओं के साथ-साथ सोशल मीडिया मीम्स का भी विषय बन गए है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

गोवा में भारी बारिश से सड़कों पर बने गड्ढे राजनीतिक आलोचनाओं के साथ-साथ सोशल मीडिया मीम्स का भी विषय बन गए है। मानसून के दौरान गड्ढों से सड़कों की खराब स्थिति को लेकर मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने शनिवार को लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया कि 1 नवंबर तक राज्य की सड़कों पर एक भी गड्ढा दिखाई न दे।

पूर्व उप मुख्यमंत्री सुदीन धवलीकर ने कहा, "मैं मुख्यमंत्री को चुनौती देता हूं कि सभी ग्रामीण, प्रमुख जिला, जिला, आंतरिक सड़कों, राज्य और राष्ट्रीय राजमार्गों को ठीक करें, अगर वह सभी सड़कों को ठीक करवाते हैं, तो हम भी उनका समर्थन करेंगे।"

धवलीकर ने चुनौती तब दी है जब सावंत ने पीडब्ल्यूडी द्वारा आयोजित एक समारोह में विभाग के अधिकारियों को यह सुनिश्चित करते हुए कहा कि राज्य की सभी सड़कों पर बने गड्ढों को एक नवंबर तक ठीक कर दिया जाए।

गोवा आम आदमी पार्टी के पूर्व महासचिव और पूर्व पत्रकार प्रदीप पडगांवकर ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो अपलोड करते हुए कहा, "नमस्कार दोस्तों, अगर आपको 1 नवंबर से मेरे से कोई काम हो, तो आप मुझसे मिलने के लिए घर आएं। 1 नवंबर से मैं सड़कों पर नहीं दिखूंगा।"


गोवा में खराब सड़कों, विशेष रूप से गड्ढों के मुद्दे को उजागर करने के लिए, कांग्रेस कार्यकतार्ओं ने इस सप्ताह की शुरूआत में प्रमुख सड़कों के गड्ढे में सोकर विरोध प्रदर्शन किया। कांग्रेस नेता मेघश्याम राउत को उत्तरी गोवा जिले के बिचोलिम में गड्ढों वाली सड़कों पर अनोखा 'स्लीप-इन' विरोध प्रदर्शन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। यह विरोध यूथ कांग्रेस के राज्यव्यापी फोटोग्राफी कार्यक्रम, 'स्पॉट द पोथोल' प्रतियोगिता का एक हिस्सा था, जिसमें गड्ढों की तस्वीरों के रूप में प्रविष्टियां आमंत्रित की गई हैं।

पिछले कुछ हफ्तों में आम नागरिकों द्वारा अपने-अपने इलाकों में सड़कों को ठीक करने के लिए सीमेंट के गड्ढों को खोदने का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। हालांकि, गोवा के पीडब्ल्यूडी मंत्री दीपक पौस्कर ने सड़कों की स्थिति को एक चाल के रूप में इस्तेमाल कर सरकार को बदनाम करने के प्रयासों की निंदा की है। उन्होंने सरकार के आलोचकों पर सड़कों की स्थिति को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने के लिए गड्ढों को बढ़ाने का भी आरोप लगाया।


पौस्कर ने कहा, "कुछ लोगों ने गड्ढों के आकार का विस्तार करने के लिए तस्वीरें और वीडियो ले लिया है और उन पर जूम इन किया है। यह सही नहीं है। सरकार इस मुद्दे को ठीक करने के लिए गंभीर है। दिसंबर तक राज्य की सभी सड़कों को नए सिरे से बना दिया जाएगा।"

राज्य में 2022 की शुरूआत में चुनाव होने के साथ, विशेष रूप से गड्ढों वाली सड़कों और बुनियादी ढांचे के खराब रखरखाव के विपक्षी शस्त्रागार में शामिल होने की उम्मीद है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia