गूगल इंडिया की सरकारी मामले और सार्वजनिक नीति प्रमुख अर्चना गुलाटी ने दिया इस्तीफा, सिर्फ 5 महीने में छोड़ा पद

अर्चना गुलाटी का इस्तीफा ऐसे समय में आया है जब भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग गूगल की प्लेस्टोर नीतियों की जांच में अपने फैसले की घोषणा करने वाला है। सीसीआई, गूगल प्लेस्टोर की कथित प्रतिस्पर्धा-विरोधी प्रथाओं को लेकर कई समूहों की शिकायतों पर चर्चा कर रहा है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

गूगल इंडिया में गवर्नमेंट अफेयर्स एंड पब्लिक पॉलिसी की निदेशक अर्चना गुलाटी ने कंपनी से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने महज पांच महीने में कंपनी छोड़ दिया है। सूत्रों के मुताबिक उनके इस्तीफे का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। कंपनी ने इसपर तुरंत कोई टिप्पणी नहीं की है। गुलाटी ने इससे पहले नीति आयोग में संयुक्त सचिव, डिजिटल संचार के रूप में काम किया है और इसी साल मई में गूगल में शामिल हुई थीं।

अर्चना गुलाटी का इस्तीफा ऐसे समय में आया है जब भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) सर्च दिग्गज गूगल की प्लेस्टोर नीतियों की जांच में अपने फैसले की घोषणा करने के लिए तैयार है। सीसीआई, गूगल प्लेस्टोर की कथित प्रतिस्पर्धा-विरोधी प्रथाओं को लेकर अलायंस ऑफ डिजिटल इंडिया फेडरेशन (एडीआईएफ), मैच ग्रुप और देश की अन्य ऐप कंपनियों के साथ चर्चा कर रहा है।


गूगल ने 2020 में सभी ट्रांजेक्शन के लिए 30 प्रतिशत कमीशन लागू किया है, जिसकी भारतीय ऐप डेवलपर्स ने आलोचना की है। इस महीने की शुरूआत में गूगल ने भारत में अपने पायलट के अगले चरण की शुरूआत की, ताकि उपयोगकर्ताओं को प्लेस्टोर पर ऐप खरीदारी के लिए वैकल्पिक बिलिंग विकल्प तलाशने में मदद मिल सके।

भारत में सभी गैर-गेमिंग डेवलपर्स अब पायलट में भाग लेने के लिए साइन अप कर सकते हैं और अपने मोबाइल और टैबलेट उपयोगकर्ताओं को विकल्प प्रदान कर सकते हैं। कंपनी ने कहा, "आने वाले महीनों में हम और अधिक साझा करेंगे क्योंकि हम अपने पायलट भागीदारों के साथ निर्माण और पुनरावृति जारी रखेंगे।"


इस बीच, वर्नाक्यूलर सोशल गेमिंग प्लेटफॉर्म विनजो गेम्स ने अपने प्ले स्टोर पर केवल डेली फैंटेसी स्पोर्ट्स (डीएफएस) और रम्मी गेम्स को चुनिंदा रूप से शामिल करने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय में गूगल की हालिया नीति को चुनौती दी है, जो कई कौशल गेमिंग प्लेटफॉर्म और स्थानीय डेवलपर्स को शामिल नहीं करता है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;