आधार कार्ड पर सरकार ने फिर लिया यू-टर्न, फोटोकॉपी पर एडवाइजरी ली वापस, जानें अब क्या कहा

दुरुपयोग से बचने के लिए आधार की फोटोकॉपी साझा नहीं करने के परामर्श के दो दिन बाद ही इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि वह आधार की फोटोकॉपी को लेकर जारी विज्ञप्ति को वापस ले रहा है, क्योंकि इसकी गलत व्याख्या हो सकती है।

प्रतीकात्मक फोटोः सोशल मीडिया
प्रतीकात्मक फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

केंद्र की मोदी सरकार ने आधार कार्ड के इस्तेमाल पर दो दिन पहले जारी उस एडवाइजरी को वापस ले लिया है, जिसमें लोगों को अपने आधार की फोटोकॉपी शेयर करने को लेकर सचेत किया गया था। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने रविवार को एक बयान में कहा कि वह आधार कार्ड की फोटोकॉपी शेयर नहीं करने के परामर्श वाली विज्ञप्ति को वापस ले रहा है, क्योंकि इसकी गलत व्याख्या हो सकती है।

इससे पहले 27 मई, 2022 को बेंगलुरु क्षेत्रीय कार्यालय, यूआईडीएआई द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में दुरुपयोग की आशंका के चलते लोगों को किसी को भी आधार कार्ड की फोटोकॉपी नहीं देने की सलाह दी गई थी, जिसके दुरुपयोग की आशंका थी। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने बयान में कहा था कि लोगों को किसी संस्थान को आधार कार्ड की फोटोकॉपी नहीं देना चाहिए, क्योंकि इसका गलत इस्तेमाल हो सकता है। इसकी जगह आप मास्क्ड आधार का उपयोग कर सकते हैं, जिसमें आपके आधार नंबर के केवल आखिरी 4 डिजिट ही दिखते हैं।


लेकिन आज जारी स्पष्टीकरण में सरकार ने कहा है कि प्रेस विज्ञप्ति की गलत व्याख्या की संभावना को देखते हुए, इसे तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाता है। इसमें कहा गया है कि यूआईडीएआई द्वारा जारी आधार कार्ड धारकों को सलाह दी गई है कि वे अपने यूआईडीएआई आधार नंबर का उपयोग और साझा करने में सामान्य विवेक का प्रयोग करें। साथ ही सरकार ने कहा कि आधार पहचान प्रमाणीकरण पारिस्थितिकी तंत्र ने आधार धारक की पहचान और गोपनीयता की रक्षा और सुरक्षा के लिए पर्याप्त सुविधाएं प्रदान की हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia