पेगासस जासूसी कांड को लेकर चिदंबरम का केंद्र पर निशाना, बोले- सब जानती थी मोदी सरकार, इसलिए नहीं है चिंतित

चिदंबरम ने आरोप लगाया कि एकमात्र सरकार जो चिंतित नहीं है वह भारत सरकार है, "क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि सरकार जासूसी के बारे में पूरी तरह से अवगत थी और उसे इजराइल या एनएसओ समूह से और जानकारी की आवश्यकता नहीं है?"

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

राजनेताओं, पत्रकारों और अन्य लोगों पर पेगासस जासूसी विवाद के बीच, पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने सोमवार को आरोप लगाया कि सरकार जासूसी के बारे में सबकुछ जानती थी। चिदंबरम ने एक बयान में कहा, "फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रोन ने इजराइल के पीएम बेनेट को फोन किया और फ्रांस में फोन हैक करने के लिए पेगासस स्पाइवेयर के कथित इस्तेमाल के बारे में पूरी जानकारी की मांग की। "

उन्होंने आरोप लगाया कि एकमात्र सरकार जो चिंतित नहीं है वह भारत सरकार है, "क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि सरकार जासूसी के बारे में पूरी तरह से अवगत थी और उसे इजराइल या एनएसओ समूह से और जानकारी की आवश्यकता नहीं है?" कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को पेगासस को हथियार बताया और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग की।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट से जांच कराने की भी मांग की। संसद के बाहर मीडिया को संबोधित करते हुए, राहुल गांधी ने कहा, "पेगासस को इजरायल राज्य द्वारा एक हथियार के रूप में वगीर्कृत किया गया है और उस हथियार का इस्तेमाल आतंकवादी के खिलाफ किया जाना चाहिए। प्रधान मंत्री (नरेंद्र मोदी) और केंद्रीय गृह मंत्री ने इस हथियार का इस्तेमाल भारतीय राज्य और हमारी संस्थाओं के खिलाफ किया है।"

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने इसका राजनीतिक इस्तेमाल किया। उन्होंने आरोप लगाया कि कर्नाटक में इसका इस्तेमाल किया है, उन्होंने इसका इस्तेमाल जांच में बाधा डालने के लिए किया है, उन्होंने इसका इस्तेमाल सुप्रीम कोर्ट और इस देश के सभी संस्थानों के खिलाफ किया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia