पीएम मोदी के गुजरात में मंदी से हाहाकार, सूरत में आर्थिक तंगी से परेशान होकर बिल्डर ने की खुदकुशी

बिल्डर हरेश भाई सूरत के कामरेज इलाके में रहते थे। उन्होंने अपने फॉर्म हाऊस में फांसी लगाकर खुदकुशी की है। लोगों ने बताया कि लंबे समय से कारोबार में आई मंदी की बिल्डर हरेश बेहद परेशान थे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश में आर्थिक मंदी से परेशान होकर बड़े-बड़े उद्योग अपने प्लांट बंद कर रहने को मजबूर हैं। वहीं जनता को समझ नहीं आ रहा कि वह क्या करे। गुजरात के सूरत में अर्थिक तंगी से परेशान होकर एक बिल्डर ने खुदकुशी कर ली है। खुदकुशी करने वाले बिल्डर का नाम हरेश भाई शामजी भाई रवाणी बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि यह बिल्डर कारोबार में आई मंदी से परेशान था।

बिल्डर हरेश भाई सूरत के कामरेज इलाके में रहते थे। उन्होंने अपने फॉर्म हाऊस में फांसी लगाकर खुदकुशी की है। लोगों ने बताया कि लंबे समय से कारोबार में आई मंदी की बिल्डर हरेश बेहद परेशान थे। खबरों के मुताबिक, हरेश ने अपने प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए प्राइवेट फाइनेंसरों से ब्याज पर करोड़ों रुपये लिए थे। वे फाइनेंसर्स का पैसा लौटा नहीं पा रहे थे। बिल्डर की खुदकुशी की खबर मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई है। फिलहाल पुलिस ने कुछ भी कहने से मना कर दिय है। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

आधिकारिक आंकड़ों अनुसार, पिछले एक साल में जीडीपी ग्रोथ रेट में 25 फीसदी की गिरावट आई है। साल 2018-19 के पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 8.1 फीसदी थी जो इस साल (2019-20) की पहली तिमाही में गिरकर 5.8 फीसदी रह गई है। इस तरह एक साल में करीब 25 फीसदी की गिरावट जीडीपी ग्रोथ रेट में रही है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, इस साल जनवरी से मार्च तक भारत की जीडीपी ग्रोथ रेट पिछले पांच साल में सबसे कम 5.8 फीसदी रही। आर्थिक मंदी के बीच सभी सेक्टर का बुरा हाल है। ऑटो सेक्टर का सबसे ज्यादा बुरा हाल है। आलम यह है कि ऑटो सेक्टर की कई कंपनियां काम बंद करने को मजबूर हैं।

Published: 10 Sep 2019, 11:23 AM
लोकप्रिय