गुजरात: शबरीधाम मंदिर के ट्रस्टी पद से हटाए गए BJP विधायक, ट्रस्टियों ने लगाए गंभीर आरोप!

गुजरात के डांग से बीजेपी विधायक विजय पटेल को शबरीधाम मंदिर ट्रस्ट से बर्खास्त कर दिया गया है। हालांकि, आधिकारिक पत्र में ट्रस्टियों ने उन्हें हटाने का कोई संतोषजनक कारण नहीं बताया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

गुजरात के डांग से बीजेपी विधायक विजय पटेल को शबरीधाम मंदिर ट्रस्ट से बर्खास्त कर दिया गया है। हालांकि, आधिकारिक पत्र में ट्रस्टियों ने उन्हें हटाने का कोई संतोषजनक कारण नहीं बताया है। लेकिन, आईएएनएस से टेलीफोन पर बातचीत में एक ट्रस्टी किशोर गावित ने कहा, "पटेल ईसाई समुदाय के सदस्यों को 6 जून को मंदिर में ले गए। यह मंदिर ट्रस्ट के नियमों के खिलाफ है, इसलिए उनके खिलाफ यह कठोर कार्रवाई की गई। विजय पटेल पूर्व आदिवासी विकास मंत्री गणपतसिंह वसावा के साथ थे, जिनके साथ मंदिर के गर्भद्वार में तीन से चार ईसाई मौजूद थे।"

गावित ने आईएएनएस को बताया कि शबरीधाम मंदिर बनाने का मकसद आदिवासियों का ईसाई धर्म में धर्मांतरण रोकना है। इसे रामायण की शबरी, आदिवासी महिला की याद में बनाया गया, जिन्होंने भगवान राम को जामुन खिलाए थे। मंदिर का निर्माण 2004 में किया गया था, कहा जाता है कि रामायण काल में शबरी यहां रहते थे।


मंदिर के पूर्व ट्रस्टी और डांग विधायक विजय पटेल ने कहा, "यह मेरे खिलाफ एक निराधार आरोप है। मैंने किसी ईसाई को मंदिर में नहीं लिया है, मुझे संबोधित बर्खास्तगी पत्र में ऐसा कोई कारण नहीं बताया गया है, लेकिन मैं मंदिर ट्रस्ट के फैसले का सम्मान करता हूं।"

विजय पटेल दो दशकों से पार्टी से जुड़े हुए हैं, उन्होंने 2007 में डांग से पार्टी के चिन्ह पर विधानसभा चुनाव जीता था, लेकिन 2012 और 2017 में कांग्रेस उम्मीदवारों से हार गए। 2020 में कांग्रेस विधायक मंगल गावित के इस्तीफा देने और बीजेपी में शामिल होने के बाद, नवंबर 2020 के उपचुनाव में, विजय पटेल ने 60,095 मतों के अंतर से चुनाव जीता। कहा जाता है कि इस चुनाव में ईसाइयों और चचरें ने सत्ताधारी पार्टी के उम्मीदवार विजय पटेल को समर्थन दिया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia