गुजरात चुनाव ने BJP को नदी जोड़ो परियोजना रोकने पर किया मजबूर, विनाशकारी योजना मध्य प्रदेश में जारी- जयराम रमेश

आदिवासी समुदाय के विरोध के बाद बीजेपी सांसदों ने परियोजना को रोकने के लिए गृह मंत्री से मुलाकात की थी, जिसके बाद यह फैसला हुआ। आदिवासी इस परियोजना का विरोध कर रहे हैं। उनका दावा है कि इससे वलसाड, डांग और नवसारी जिलों में उनकी आजीविका नष्ट हो जाएगी।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

पूर्व केंद्रीय पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने मंगलवार को आरोप लगाया कि बीजेपी सरकार ने आदिवासी आबादी के विरोध और राज्य के आगामी चुनावों के कारण गुजरात में नदी जोड़ने की परियोजना को रोक दिया है। लेकिन मध्य प्रदेश में विनाशकारी केन-बेतवा लिंक परियोजना जारी है।

उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार को आगामी गुजरात चुनावों के कारण पर-तापी-नर्मदा नदी जोड़ने की परियोजना को रोकने के लिए मजबूर होना पड़ा है, क्योंकि जमीनी स्तर पर आंदोलन ने हजारों आदिवासियों के संभावित विस्थापन का विरोध किया था। लेकिन मध्य प्रदेश में विनाशकारी केन-बेतवा लिंक परियोजना जारी है।"


सूत्रों ने बताया कि आदिवासी समुदाय के विरोध के बाद बीजेपी सांसदों ने परियोजना को रोकने के लिए गृह मंत्री से मुलाकात की और बाद में यह फैसला लिया गया। आदिवासी इस परियोजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उनका दावा है कि इससे वलसाड, डांग और नवसारी जिलों में उनकी आजीविका नष्ट हो जाएगी।

यह परियोजना पर नदी को जोड़ेगी, जिसकी उत्पत्ति नासिक में है और गुजरात में वलसाड से होकर बहती है। सापुतारा से तापी नदी सूरत से होकर बहती है और नर्मदा नदी मध्य प्रदेश से निकलती है। इस परियोजना का उद्देश्य सरदार सरोवर परियोजना का इस्तेमाल करके पश्चिमी घाट से अतिरिक्त पानी को सौराष्ट्र और कच्छ के क्षेत्रों में स्थानांतरित करना है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia