गुजरात चुनावः वोटिंग से पहले राजकोट में शराब के अड्डे पर छापा, आरोपियों के परिजनों ने किया हंगामा

एक वायरल वीडियो क्लिप में एक महिला आरोप लगा रही है कि वह हर महीने पुलिस को मोटी रिश्वत देते हैं। पुलिसकर्मी प्रति व्यक्ति 2000-2000 रुपये वसूलते हैं, जबकि 20,000 रुपये विजिलेंस को दिया जाता है। वह पुलिस अधिकारियों को सबसे महंगी आईएमएफएल की बोतल देते हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान से एक दिन पहले पुलिस स्टेट मॉनिटरिंग सेल (एसएमसी) की टीम ने राजकोट शहर में देशी शराब के अड्डे पर छापा मारकर 10 तस्करों को गिरफ्तार किया है। हालांकि मंगलवार देर रात पुलिस की कार्रवाई के बाद गिरफ्तार किए गए लोगों के परिजनों ने मालवीय नगर थाने में जमकर हंगामा किया और पुलिस टीम पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए।

एसएमसी के सहायक उप निरीक्षक एन.जी. सपर ने कहा कि गोकुलधाम आवास योजना में शराब का अड्डा चलाने की पुख्ता सूचना पर सोसायटी के विभिन्न फ्लैटों पर छापेमारी की गई। छापे में तीन लाख रुपये की देशी शराब, कच्चा माल और कई बोतलों के अलावा 10,081 आईएमएफएल की बोतलें जब्त की गईं। कुल मिलाकर 38 लाख रुपये की जब्ती की गई है।

गुजरात निषेध अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत गिरफ्तार किए गए लोगों में शराब तस्कर हार्दिक उर्फ कवि हरेश सोलंकी, अनिल सिंह जडेजा, नितिन जरिया, अमित चौहान, धर्मेंद्र राठौड़, अरविंद सिंगड़ा, जयेश गढ़वी और कानू परमार शामिल हैं। मामले की जांच पुलिस सब इंस्पेक्टर एमएस माहेश्वरी कर रहे हैं।


पुलिस टीम के लिए यह छापेमारी आसान नहीं थी, क्योंकि आरोपी गुट की महिलाओं और युवाओं से सबसे पहले उनका सामना हुआ। छापेमारी खत्म होने के बाद जब शराब तस्करों को मालवीयनगर थाने लाया गया तो हार्दिक समेत अन्य शराब तस्करों के परिवार वालों ने पुलिस का घेराव किया और आरोपियों को छुड़ाने की कोशिश की।

आरोपी के परिजन रिश्वतखोरी के आरोप लगा रहे थे। कुछ महिलाओं ने यह भी आरोप लगाया कि हर महीने एक पुलिस टीम उनसे रिश्वत लेती है। वायरल हो रहे एक वीडियो क्लिप में एक महिला आरोप लगा रही है कि वह हर महीने पुलिस को मोटी रिश्वत देते हैं। पुलिसकर्मी प्रति व्यक्ति 2000-2000 रुपये वसूलते हैं, जबकि 20,000 रुपये विजिलेंस को दिया जाता है। वह पुलिस अधिकारियों को सबसे महंगी आईएमएफएल की बोतल देते हैं।

पुलिस से बहस करती आरोपियों के घर की महिला
पुलिस से बहस करती आरोपियों के घर की महिला
फोटोः IANS

एक वायरल वीडियो में आरोपी हार्दिक को यह दावा करते हुए भी देखा जा सकता है कि जब एक पुलिसकर्मी अपने परिवार को दीव के दौरे पर ले गया था, तो उसने यात्रा के लिए 20,000 रुपये का बिल चुकाया और फिर भी छापेमारी और गिरफ्तारी से उसे परेशान किया जाता है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */