हरिद्वार कुंभ: एक लाख से ज़्यादा लोगों के कोविड टेस्ट की झूठी रिपोर्ट, FIR के आदेश, जानें क्या है पूरा मामला?

राज्य सरकार के प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने जनाकारी देते हुए बताया कि कुंभ मेले के दौरान हरिद्वार में 5 स्थानों पर टेस्ट करने वाली दिल्ली और हरियाणा की लैब के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश जारी कर दिया गया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तराखंड सरकार ने हरिद्वार जिला प्रशासन को महाकुंभ के दौरान हुए कोरोना टेस्टिंग घोटाले में एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है। राज्य सरकार के प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने जनाकारी देते हुए बताया कि कुंभ मेले के दौरान हरिद्वार में 5 स्थानों पर टेस्ट करने वाली दिल्ली और हरियाणा की लैब के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश जारी कर दिया गया है।

आपको बता दें, उत्तराखंड के हरिद्वार कुंभ के दौरान कोरोना टेस्टिंग में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। यहां जाली नंबरों और पतों के साथ करीब 1 लाख कोरोना टेस्ट नकली निकले हैं। कुंभ मेला स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना की टेस्टिंग के लिए हरिद्वार, देहरादून, रुड़की और हरियाणा की 11 लैब को सूचीबद्ध किया था। इनमें से हरियाणा की 2 प्राइवेट लैब ने कुंभ मेले के आयोजन के दौरान 1 लाख से ज्यादा रैपिड एंटीजन टेस्ट किए थे, इनमें से अधिकतर टेस्ट नेगेटिव थे।


गौरतलब है कि कोरोना की दूसरी लहर के बीच हरिद्वार में महाकुंभ का आयोजन 1 अप्रैल से लेकर 30 अप्रैल तक हुआ था, जहां देश के अलग-अलग राज्यों से लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ हरिद्वार कुंभ मेले में हिस्सा लेने पहुंची थी। श्रद्धालुओं की कोरोना जांच का जिम्मा सरकार की ओर से 11 निजी पैथोलॉजी लैबों को दिया गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia