हरियाणाः 20 अप्रैल के बाद चरणबद्ध शुरू हो सकती है आर्थिक गतिविधि, रबी फसल की खरीद को लेकर खट्टर सरकार परेशान

हरियाणा सरकार ने कहा है कि 20 अप्रैल तक कोरोना की वर्तमान स्थिति का आंकलन किया जाएगा और जहां-जहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या का ग्राफ स्थिर होगा यानी नए मामले नहीं आएंगे, वहां कुछ शर्तों के साथ औद्योगिक और आर्थिक गतिविधियां आरंभ हो सकेंगी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

धीरेंद्र अवस्थी

हरियाणा की बीजेपी सरकार प्रधानमंत्री के ऐलान का इंतजार ही कर रही थी। देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा के साथ ही हरियाणा में भी इसका विस्‍तार कर दिया गया है। लेकिन राज्य की खट्टर सरकार में एक बेचैनी है। लॉकडाउन के बीच 15 अप्रैल से रबी फसलों की शुरू हो रही खरीद एक बड़ी चुनौती है। पहले चरण के लॉकडाउन में सरकार की बनाई तमाम व्‍यवस्‍थाएं ध्‍वस्‍त हो चुकी हैं। ऐसे में फसल खरीद में भी यही हाल रहा तो उसके लिए और मुश्किल होनी वाली है, जिसकी पूरी आशंका है। लिहाजा, खट्टर सरकार ने उम्‍मीद जाहिर की है कि 20 अप्रैल के बाद चरणबद्ध तरीके से वह राज्‍य में आर्थिक गतिविधियां शुरू कर सकेगी।

राज्‍य में कोरोना के हॉटस्‍पाट बने फरीदाबाद, गुरुग्राम, पलवल और नूंह प्रदेश सरकार के लिए चिंता का सबब बने हुए हैं। परेशानी की बात यह है कि प्रदेश की आर्थिक गतिविधियों का केंद्र भी यही शहर हैं। सरकार का सबसे ज्‍यादा राजस्‍व गुरुग्राम से आता है। मजदूर राज्‍य से पलायन कर चुके हैं। रोज कमाने-खाने वाले वर्ग के दर्द की सामने आ चुकी तस्‍वीरें सरकार को परेशान कर रही हैं और भविष्‍य की मुश्किल चुनौतियां उसे और डरा रही हैं।

लिहाजा, 14 अप्रैल को सुबह 10 बजे प्रधानमंत्री के ऐलान का उसे बेसब्री से इंतजार था। सरकार ने कहा है कि प्रधानमंत्री ने देशव्यापी लॉकडाउन की अवधि को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की है। आज से 20 अप्रैल तक कोरोना की वर्तमान स्थिति का आंकलन किया जाएगा और जहां-जहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या का ग्राफ स्थिर होगा यानी नए मामले नहीं आएंगे, वहां कुछ शर्तों के साथ औद्योगिक और आर्थिक गतिविधियां आरंभ हो सकेंगी।

इसलिए खट्टर सरकार द्वारा हरियाणा में कोरोना ग्राफ को स्थिर रखने के लिए हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं। उसे उम्मीद है कि 20 अप्रैल के बाद राज्य में चरणबद्ध तरीके से आर्थिक और औद्योगिक गतिविधियां शुरू हो सकेंगी। मुख्यमंत्री ने कहा है कि लॉकडाउन की अवधि में हमें अनुशासन में रहकर कोरोना से लड़ने की एकजुटता दिखानी है।

इस बीच मंगलवार को फरीदाबाद में दो नए मरीज सामने आए है। वहां अब कुल 33 मरीज हो गए हैं। इसके साथ ही प्रदेश में अब तक कुल 185 कोरोना संक्रमित मिले हैं। हरियाणा स्वास्थ्य विभाग ने अभी तक 5219 सैंपल टेस्ट के लिए भेजे हैं। इनमें से 3681 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। 185 पॉजिटिव मिले हैं। अभी 1345 रिपोर्ट का इंतजार है। अभी 143 कोरोना के एक्टिव मरीज अस्पताल में भर्ती हैं, जबिक 39 को छुट्टी दे दी गई है। सोमवार को प्रदेश में एक मरीज सिर्फ सिरसा में मिला था। यहां के रोड़ी गांव की मस्जिद के मौलवी की पत्नी पॉजिटिव मिली थी।

हरियाणा में अब तक सबसे ज्यादा 45 मरीज नूंह में सामने आए हैं। जबकि गुरुग्राम में 32, फरीदाबाद में 33, पलवल में 29, अंबाला में 7, करनाल में 6, पंचकूला में 5, पानीपत-सिरसा में 4-4, यमुनानगर-सोनीपत में 3-3, हिसार, जींद, कुरुक्षेत्र में 2-2 और रोहतक, चरखी-दादरी और फतेहाबाद में एक-एक कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है।

लोकप्रिय
next