सैकड़ों मुस्लिमों ने छोड़ा गुरुग्राम-नूंह, बोले- हमारे खिलाफ खुलेआम फैलाई जा रही है नफरत

“मेरे परिवार को पैसा नहीं चाहिए। वे केवल यही चाहते हैं कि मैं गांव वापस लौट जाऊं।” बिहार का एक प्रवासी मजदूर इमरान अली 31 जुलाई को हुई हिंसा के बाद डर के मारे गुरुग्राम से चला गया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

“मेरे परिवार को पैसा नहीं चाहिए। वे केवल यही चाहते हैं कि मैं गांव वापस लौट जाऊं।” बिहार का एक प्रवासी मजदूर इमरान अली 31 जुलाई को हुई हिंसा के बाद डर के मारे गुरुग्राम से चला गया। अली (25) हिंसा के दो हफ्ते बाद अपना सामान लेने के लिए गुरुग्राम लौटा था।

अली ने आईएएनएस को बताया, “मेरे परिवार ने मुझे कहा कि मैं गुरुग्राम में काम न करूं और तुरंत लौट आऊं। काफी समझाने के बाद भी वे नहीं माने और मुझसे तुरंत वापस लौटने को कहा।''

31 जुलाई को नूंह में धार्मिक दंगे भड़क उठे जिसमें छह लोग मारे गए जबकि 88 गंभीर रूप से घायल हो गए। नूंह जिले में विश्व हिंदू परिषद द्वारा आयोजित एक धार्मिक जुलूस के दौरान पथराव के बाद धार्मिक दंगे भड़क उठे थे।

नूंह के एक मुस्लिम निवासी, जिसके घर पर बुलडोजर चला था, ने आईएएनएस को बताया कि उन्हें लंबे समय से एहसास था कि बीजेपी की धार्मिक बयानबाजी से दंगे होंगे और मुसलमानों को निशाना बनाया जाएगा।


उन्होंने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “अधिकांश हिंदू यह मानते हैं कि नूंह के लोग दंगों में शामिल थे, जो सच नहीं है। हिंदुओं की तरह हम मुसलमान भी समान रूप से भारतीय हैं।” 

उन्होंने याद दिलाया कि कैसे यात्रा के दौरान हिंदुओं ने मुसलमानों के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था। धार्मिक दंगों के मामले में नूंह पुलिस ने अब तक 230 लोगों को हिरासत में लिया है जबकि गुरुग्राम पुलिस ने 79 लोगों को गिरफ्तार किया है।

“हिंदू समूह खुलेआम हमारे खिलाफ नफरत फैला रहे हैं। सैकड़ों लोगों के बीच, हिंदू समूह मुसलमानों का बहिष्कार करने, हमारी दुकानों से कुछ भी नहीं खरीदने और मकान किराए पर नहीं देने की घोषणा कर रहे हैं। उन्होंने हमारे व्यवसाय को बर्बाद कर दिया है और सैकड़ों मुसलमानों ने गुरुग्राम छोड़ दिया है।"

अहमद खान ने शहर छोड़ते समय कहा, “हालांकि, स्थिति सामान्य होने के बाद उनमें से कुछ वापस आ जाएंगे। पुलिस और प्रशासन अपने ही देश में मुसलमानों की रक्षा करने में पूरी तरह से विफल रहे।”

“हिंदू सोचते हैं कि इस देश में सब कुछ उनका है: पुलिस, प्रशासन और अब सड़कें भी। खान ने कहा, ऐसा लगता है जैसे हम मुसलमानों को इस देश में कोई अधिकार ही नहीं है।"

दंगे भड़कने के बाद गुरुग्राम में मुसलमानों की झुग्गियों और कबाड़ की दुकानों में आग लगा दी गई। गुरुग्राम के सेक्टर-57 में भीड़ ने एक निर्माणाधीन मस्जिद को भी निशाना बनाया और पांच लोगों पर हमला किया, जिसमें एक इमाम की मौत हो गई, जबकि अन्य घायल हो गए।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;