तमिलनाडु में भारी बारिश बनी आफत, चेन्नई में आसमान पर पहुंचे सब्जियों के दाम

राज्य में लगातार बारिश के कारण सब्जियों की बढ़ती कीमतों के बाद अब लोग आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में भी वृद्धि की उम्मीद कर रहे हैं, क्योंकि भारी बारिश ने ट्रक सेवाओं को बाधित कर दिया है और अधिकांश आवश्यक वस्तुओं को ट्रेनों में ले जाया जा रहा है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

तमिलनाडु में तीन दिनों से जारी भारी बारिश आम लोगों के लिए आफत बनती जा रही है। राज्य के कई इलाकों में भारी बारिश के चलते जलभराव हो गया है, जिसके चलते कई चीजों पर प्रभाव पड़ा है। चेन्नई में तो चारों तरफ जलजमाव के बीच सब्जियों के दाम आसमान पर पहुंच गए हैं।

चेन्नई में थो सब्जी मंडी कोयम्बेडु बाजार में सब्जियों की कीमतें बढ़ गई हैं। साथ ही खुदरा सब्जी बाजारों में भी कीमतों में तेजी आई है। टमाटर की कीमत 100 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है। भिंडी 150 रुपये प्रति किलोग्राम के स्तर को छू गई है, जबकि चेन्नई के खुदरा बाजारों में भारी बारिश के बाद सेम 100 रुपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से बिक रही है। लगभग सभी सब्जियां, जो 25 रुपये प्रति किलो से कम पर बिक रही थीं अब 50 रुपये प्रति किलो से अधिक बिक रही हैं। गाजर 130 रुपये किलो बिक रही है, जबकि शिमला मिर्च 120 रुपये किलो बिक रही है।

एम.के. कोयमडेडु बाजार के एक थोक व्यापारी अब्दुल्ला ने बताया, "चेन्नई शहर में हुई भारी बारिश से कीमत बढ़ रही है। यहां तक कि स्थानीय रूप से उगाई जाने वाली सब्जियां भी महंगी हो गई हैं, क्योंकि श्रम की कमी है और अधिकांश फसलें पानी में हैं। अधिकांश स्थानीय आपूर्ति चेन्नई शहर के 100 किलोमीटर के दायरे से होती है और कर्नाटक से आने वाली सब्जियों की उम्मीद नहीं है, क्योंकि शहर के कई हिस्सों में जलभराव के कारण ट्रक नहीं आ रहे हैं।"

कोयम्बेडु सब्जी बाजार के सभी संघों के संघ के अध्यक्ष जीडी राजशेखरन ने बताया, "भारी बारिश के कारण कोयम्बेडु बाजार में सब्जियों की कमी हो गई है। भारी बारिश और जलमग्न सड़कों के कारण ट्रक बीच में ही फंस जाने के कारण दूसरे राज्यों से सब्जियां नहीं पहुंच रही हैं। ऐसा लग रहा है कि कुछ और दिनों तक लागत बढ़ती रहेगी।"


चेन्नई में सब्जियों की कीमतों में वृद्धि से स्थानीय लोग चिंतित हैं, जहां आमतौर पर सभी इलाकों में अच्छी संख्या में सस्ती और ताजी सब्जी मिलती थी। कोयम्बेडु बाजार के पास अयप्पा नगर के एक थोक व्यापारी मनीसामी ने बताया, "हम कोयम्बेडु बाजार से सामान खरीदते हैं और अपनी दुकान पर थोक दर पर बेचते हैं। हालांकि, इस बार कुछ भी नहीं किया जा सकता है, क्योंकि यहां सब्जियों की कमी है। कोयम्बेडु बाजार और हमें नियमित आपूर्ति भी नहीं मिल रही है। हम जैसे लोगों के लिए जीवित रहना मुश्किल हो रहा है और यहां तक कि अगर नियमित आपूर्ति होती तो कीमतें प्रभावित नहीं होती।"

चेन्नई के कई इलाकों में सब्जियों के बढ़े दाम को लेकर लोगों ने सरकार से मांग की है कि उपभोक्ताओं से वसूले जाने वाले सामानों पर प्राइस टैग लगाया जाए। पम्मल में रहने वाले सार्वजनिक क्षेत्र के एक उपक्रम के सेवानिवृत्त कर्मचारी सेल्वनायगराज ने बताया, "सब्जियों की कीमतें अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं और मुझे नहीं पता कि हम जैसे लोग जो पेंशन पर जीवनयापन कर रहे हैं, वे कैसे जीवित रहेंगे। सभी हमारे शाकाहारी परिवार में पसंदीदा सब्जियां आम आदमी की पहुंच से बाहर हैं। जब तक सरकार कार्रवाई नहीं करती, हम सुरक्षित नहीं हैं।"

सब्जियों की बढ़ती कीमतों के साथ, लोग आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि की उम्मीद कर रहे हैं, क्योंकि बारिश ने ट्रक सेवाओं को बाधित कर दिया है और अधिकांश आवश्यक वस्तुओं को ट्रेनों में ले जाया जा रहा है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia