हिमाचल में लगातार भूस्खलन पर हाईकोर्ट की सख्ती, राज्य और केंद्र के साथ NHAI को भेजा नोटिस

याचिकाकर्ता नमिता मानिकतला ने कहा कि विशेषज्ञों ने भूस्खलन रोकने के कई उपायों की सिफारिश की है, लेकिन राज्य और एनएचएआई के अधिकारी विकास परियोजनाओं, खासकर बड़े पैमाने पर पहाड़ो की खुदाई वाले राजमार्गों के निर्माण के दौरान सुझावों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने राज्य में लगातार हो रहे भूस्खलन पर चिंता व्यक्त करते हुए शुक्रवार को केंद्र और राज्य सरकार के साथ भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) को नोटिस जारी किया है। हाईकोर्ट ने आपदाओं के प्रभाव को कम कर जीवन और संपत्ति का नुकसान कम करने के लिए अधिकारियों को आवश्यक कदम उठाने का निर्देश देने की मांग वाली याचिका पर नोटिस जारी किया है।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रवि मलीमठ और न्यायमूर्ति ज्योत्सना रेवाल दुआ की खंडपीठ ने नमिता मानिकतला की एक याचिका पर इसे जनहित याचिका मानते हुए यह आदेश पारित किया। याचिका में कहा गया है कि राज्य के कई हिस्से भूस्खलन से ग्रस्त हैं और निवासियों और पर्यटकों को जीवन का मौलिक अधिकार है और इन्हें रोकने के लिए सावधानी बरतना राज्य का कर्तव्य है।


याचिका में नमिता मानिकतला ने कहा कि विशेषज्ञों ने भूस्खलन रोकने के उपायों की सिफारिश की है, लेकिन राज्य और एनएचएआई के अधिकारी विकास परियोजनाओं, विशेष रूप से बड़े पैमाने पर पहाड़ो की खुदाई वाले राजमार्गों के निर्माण के दौरान सुझावों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं।
याचिकाकर्ता ने राज्य को विशेषज्ञों द्वारा सुझाए गए उपायों के कार्यान्वयन के बारे में अदालत को सूचित करने और देहरादून में वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी को भूस्खलन संवेदनशील क्षेत्रों पर अध्ययन करने और उन्हें रोकने के उपायों का सुझाव देने का निर्देश देने की प्रार्थना की।

उन्होंने यह भी प्रार्थना की है कि राज्य को भूस्खलन की भविष्यवाणी करने वाले उपकरणों को स्थापित करने के लिए निर्देशित किया जा सकता है, जैसा कि आईआईटी-मंडी द्वारा विकसित किया गया है और ऐसे ही अन्य उपकरणों को भूस्खलन संभावित क्षेत्रों में स्थापित किया जा सकता है। अदालत ने मामले को चार सप्ताह के बाद अगली सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करते हुए प्रतिवादियों को अगली तारीख तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।

इस साल मानसून राज्य के कांगड़ा, किन्नौर और लाहौल-स्पीति जिलों में बड़े भूस्खलन का कारण बना, जिसमें कई लोगों की जान चली गई। पिछले दो महीनों में सिरमौर और शिमला जिलों में बड़े पैमाने पर भूस्खलन को कैप्चर करने वाले भयानक वीडियो वायरल हुए थे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia