ताजमहल में भगवा कपड़े पहने घुसे हिंदूवादी नेता, परमहंस आचार्य को प्रवेश नहीं देने पर काटा बवाल

हिंदूवादी संगठन के नेता यहीं नहीं रुके। वह जगद्गुरु के अपमान का विरोध करने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के दफ्तर भी पहुंच गए। उन्होंने पुतला दहन करने की कोशिश की, लेकिन ऐसा करने से पहले मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक लिया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के आगरा के ताजमहल में परमहंस आचार्य को जाने से रोके जाने पर बवाल खड़ा हो गया। जैसे ही इस बात की खबर लगी हिंदुवादी संगठनों ने जमकर हंगामा किया। अगरा में हिंदूवादी संगठनों ने विरोध-प्रदशन किया। इसके बाद हिंदूवादी नेता भगवा वस्त्र पहने ताजमहल में घुस गए। इस दौरान बड़ी संख्या में पुलिस इन नेताओं के आसपास थी। संगठन के नेताओं ने इस मामले में दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

हिंदूवादी संगठन के नेता यहीं नहीं रुके। वह जगद्गुरु के अपमान का विरोध करने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के दफ्तर भी पहुंच गए। उन्होंने पुतला दहन करने की कोशिश की, लेकिन ऐसा करने से पहले मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक लिया। हिंदूवादी नेताओं ने ज्ञापन सौंपा और आचार्य परमहंस मामले में दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

राष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष गोविंद पाराशर भगवा पहनकर ताजमहल पहुंचे। उन्होंने धनुष-दंड लेकर ताज महल में प्रवेश भी किया। पुलिस की मौजूदगी में उन्हें ताजमहल में घुमाया गया। गोविंद पाराशर ने कहा कि पुलिस ने उन्हें नहीं रोका। उन्होंने जगतगुरु के मामले में सख्त कार्रवाई की मांग की। वहीं, हिंदू महासभा के जिला अध्यक्ष संजय जाट ने कहा कि अयोध्या से आए जगद्गुरु परमहंस आचार्य को ताजमहल में प्रवेश न करने देने को लेकर हमने एएसआई कार्यालय पर प्रदर्शन किया और दोषियों पर कार्रवाई की मांग की।

ये है पूरा मामला:

संत जगद्गुरु परमहंस आचार्य बुधवार को धार्मिक और सांस्कृतिक यात्रा पर आगरा पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि उन्हें भगवा कपड़े पहनने और धर्म दंड लिए होने की वजह से ताजमहल में नहीं जाने दिया गया। हालांकि, बाद में उन्हें बिना धर्म दंड के ताजमहल में जाने की इजाजत दी गई, लेकिन वह नहीं गए।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia