हैदराबाद गैंगरेप केसः बीजेपी विधायक ने पीड़िता की पहचान का किया खुलासा, उठी कार्रवाई की मांग

बीते 28 मई को किशोरी के साथ गैंगरेप में शामिल तीन किशोरों सहित पांच आरोपियों की पहचान करने की पुलिस की घोषणा के कुछ घंटे बाद विधायक ने फोटो और वीडियो जारी किए। पुलिस ने दो नाबालिगों समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और बाकी दो की तलाश की जा रही है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना के बीजेपी विधायक एम रघुनंदन राव ने हैदराबाद में एक कार में पांच आरोपियों द्वारा 17 वर्षीय लड़की के साथ गैंगरेप की घटना की कुछ तस्वीरें और वीडियो जारी किया है जिससे मामले में नया मोड़ आ गया है। इसके साथ ही उन्होंने पीड़ित की पहचान का खुलासा भी कर दिया है, जिसे लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग उठने लगी है। विपक्षी कांग्रेस पार्टी ने भी विधायक की कार्रवाई पर सवाल उठाया और आरोप लगाया कि वह आरोपी को बचाने के लिए टीआरएस-एमआईएम के इशारे पर काम कर रहे हैं।

शनिवार को एक संवाददाता सम्मेलन में बीजेपी विधायक ने कुछ तस्वीरें और वीडियो जारी किए, जिसमें कथित तौर पर एक विधायक के बेटे को एक कार में पीड़िता के साथ अंतरंग स्थिति में दिखाया गया है। विधायक ने अपनी कार्रवाई का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने सबूत सार्वजनिक कर दिए हैं क्योंकि पुलिस एमआईएम विधायक के बेटे को क्लीन चिट देकर बचा रही है।


दुबक से विधानसभा के सदस्य और एक वकील रघुनंदन राव ने पुलिस के इस दावे का भी खंडन किया कि यौन उत्पीड़न इनोवा में हुआ था और आरोप लगाया कि वीडियो में लाल रंग की मर्सिडीज कार में यौन उत्पीड़न दिखाया गया है। उन्होंने तर्क दिया कि अगर विधायक का बेटा पीड़िता की सहमति से इस कार्य में शामिल था, तो यह यौन अपराधों से बच्चों की रोकथाम (पोक्सो) एक्ट के तहत नहीं होगा। उन्होंने दावा किया कि उनके पास और सबूत हैं और अगर पुलिस कार्रवाई करने में विफल रहती है, तो वह उचित समय पर अदालत के सामने पेश करेंगे।

पुलिस द्वारा 28 मई को किशोरी के साथ सामूहिक बलात्कार में शामिल तीन किशोरों सहित पांच आरोपियों की पहचान करने की घोषणा के कुछ घंटे बाद उन्होंने तस्वीरें और वीडियो जारी किए। पुलिस ने दो नाबालिगों समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और बाकी दो की तलाश की जा रही है। पुलिस उपायुक्त जोएल डेविस ने कहा कि पीड़िता के बयान और एकत्र तकनीकी सबूत बताते हैं कि विधायक का बेटा अपराध में शामिल नहीं था। हालांकि, उन्होंने कहा कि अगर बाद की जांच में कुछ सामने आता है तो वे दूसरों की भूमिका की जांच करेंगे।


बीजेपी और कांग्रेस दोनों ने गैंगरेप केस में पिछले दो दिनों में कवर अप की कोशिशों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। बीजेपी ने दावा किया कि शुक्रवार को थाने में विरोध प्रदर्शन करने के बाद ही सरकार हरकत में आई। हालांकि, बीजेपी विधायक टीआरएस, कांग्रेस और अन्य दलों द्वारा तस्वीरें और वीडियो जारी करने को लेकर निशाने पर आ गए हैं, जिसमें कहा गया है कि इससे सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का उल्लंघन करते हुए पीड़िता की पहचान का पता चलता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia