केवल 250 रुपये में 'कोविसेल्फ' से घर बैठे ही करें कोरोना जांच, 15 मिनट में रिपोर्ट, ICMR ने दी मंजूरी

देश की पहली कोविड-19 होम-टेस्ट किट 'कोविसेल्फ' को पुणे की मायलैब डिस्कवरी सॉल्यूशंस द्वारा विकसित किया गया है। कंपनी ने पिछले साल भारत को अपना पहला आरटी-पीसीआर टेस्ट किट भी दिया था, जो अब आमतौर पर कोविड-19 टेस्ट के लिए उपयोग किया जाता है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में लोगों को जांच कराने में आ रही दिक्कतों को देखते हुए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने बुधवार को घर में ही कोरोना जांच के लिए विकसित की गई जांच किट ‘कोविसेल्फ’ को मंजूरी दे दी है। पुणे की एक कंपनी द्वारा निर्मित 250 रुपये की कीमत वाली इस सेल्फ-यूज रैपिड होम-टेस्ट किट से जांच रिपोर्ट सिर्फ 15 मिनट में मिल जाएगी। यह किट कुछ दिनों के भीतर बाजारों में आ जाएगी।

देश की पहली कोविड-19 होम-टेस्ट किट 'कोविसेल्फ' को पुणे की मायलैब डिस्कवरी सॉल्यूशंस द्वारा विकसित किया गया है। कंपनी ने पिछले साल भारत को अपना पहला आरटी-पीसीआर टेस्ट किट भी दिया था, जो अब आमतौर पर कोरोना टेस्ट के लिए उपयोग किया जाता है। इसके प्रबंध निदेशक हसमुख रावल ने कहा, "मायलैब डिस्कवरी सॉल्यूशन की वर्तमान में प्रति सप्ताह 70 लाख टेस्ट किट बनाने की क्षमता है और जून की शुरुआत तक इसे बढ़ाकर 1 करोड़ टेस्ट किट कर दिया जाएगा।"

हसमुख रावल ने कहा कि स्व-उपयोग टेस्ट किट का उपयोग किसी भी लक्ष्ण वाले व्यक्ति या आईसीएमआर दिशानिर्देशों के अनुसार पुष्टि किए गए मामलों में उनके तत्काल संपर्कों द्वारा किया जा सकता है और वे स्वयं ही खुद का टेस्ट कर सकते हैं, आइसोलेट में जा सकते हैं और जल्दी से उपचार प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक किट में आवश्यक टेस्ट सामग्री, इस्तेमाल के निर्देश के लिए उपयोग पत्रक और टेस्ट के बाद इसे सुरक्षित रूप से निपटाने के लिए एक बायोहाजर्ड बैग शामिल होगा। उपयोगकर्ता की परेशानी को कम करने के लिए गहरे नासॉफिरिन्जियल की तुलना में नाक के स्वाब का उपयोग करके टेस्ट किया जाता है।


कंपनी के अनुसार कोविसेल्फ केवल 15 मिनट में रिपोर्ट देगा और सभी पैक में एक क्यूआर कोड होता है, जिसे ऐप पर रिपोर्ट प्राप्त करने के लिए टेस्ट के परिणाम के साथ दर्ज किया जाना चाहिए। रावल ने कहा, "चूंकि यह एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा नमूना संग्रह की जरूरत को समाप्त करता है, यह टेस्ट के परिणामों में देरी को कम करने के अलावा, अत्यधिक टेस्ट प्रयोगशालाओं पर दबाव को कम करेगा, जो देश के कुछ हिस्सों में 72 घंटे से अधिक है।"

निदेशक सुजीत जैन ने कहा कि अपने कोविसेल्फ टेस्ट के साथ एमडीएस को उम्मीद है कि वह कोविड-19 टेस्ट को हर भारतीय के दरवाजे तक पहुंचाएगा, ताकि उन्हें दूसरी महामारी की लहर और किसी भी बाद की लहर से लड़ने में मदद मिल सके, क्योंकि इसे बिना किसी फार्मेसी से खरीदा जा सकता है।

जैन ने कहा, "अधिकांश पश्चिमी देशों ने अपने नागरिकों के लिए खुद टेस्ट अनुमति दी है और इसे श्रृंखला को तोड़ने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण के रूप में मानते हैं। मायलैब के एआई- संचालित मोबाइल ऐप के साथ जुड़ता है, ताकि उपयोगकर्ता अपनी पॉजिटिव स्थिति जान सके, परिणाम आईसीएमआर को सबमिट कर सके। हमें यकीन है कि यह छोटा कदम दूसरी और बाद की लहरों को कम करने में एक बड़ी सहायता होगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia