कोरोना संक्रमण के पहले हफ्ते में ये 5 से ज्यादा लक्षण हैं तो वायरस से जल्दी नहीं मिलेगा छुटकारा, जानें जानकारों की राय

एक नए अध्ययन के अनुसार, संक्रमण के पहले सप्ताह में कोविड के पांच से अधिक लक्षणों की उपस्थिति लंबे कोविड के विकास से महत्वपूर्ण रूप से जुड़ी हुई हैं, चाहे वह किसी भी उम्र या लिंग में हो।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

एक नए अध्ययन के अनुसार, संक्रमण के पहले सप्ताह में कोविड के पांच से अधिक लक्षणों की उपस्थिति लंबे कोविड के विकास से महत्वपूर्ण रूप से जुड़ी हुई हैं, चाहे वह किसी भी उम्र या लिंग में हो। अध्ययन के लिए, बमिर्ंघम विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं ने एक समीक्षा की जिसमें थकान, सांस की तकलीफ, मांसपेशियों में दर्द, खांसी, सिरदर्द, जोड़ों में दर्द, सीने में दर्द, बदली हुई गंध, दस्त और बदले स्वाद जैसे लंबे कोविड लक्षणों की जांच की गई।

टीम ने लंबे कोविड के दो मुख्य लक्षण समूहों की पहचान की, जिनमें विशेष रूप से थकान, सिरदर्द और ऊपरी श्वसन संबंधी शिकायतें, और बुखार और गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिकल लक्षणों सहित बहु-प्रणाली की शिकायत शामिल हैं। निष्कर्ष जर्नल ऑफ द रॉयल सोसाइटी ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित हुए हैं।

यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर पेशेंट रिपोर्टेड आउटकम रिसर्च के डिप्टी निदेशक और प्रमुख लेखक ओलालेकन ली एयगबुसी ने कहा कि इस बात के सबूत हैं कि रोगियों पर तीव्र कोविड -19 का प्रभाव, गंभीरता की परवाह किए बिना, सबसे गंभीर मामलों में अस्पताल में भर्ती होने से परे, जीवन की चल रही खराब गुणवत्ता, मानसिक स्वास्थ्य और रोजगार के मुद्दों तक फैला हुआ है।


ऐयगबुसी ने कहा, "समीक्षा में शामिल एक अध्ययन में एक तिहाई से अधिक रोगियों ने बताया कि वे अभी भी बीमार महसूस कर रहे थे और कोविड19 की शुरूआत की तुलना में आठ सप्ताह बाद बदतर नैदानिक स्थिति में थे।"

अन्य कोरोनविर्यूज की तुलना में, शोधकतार्ओं का सुझाव है कि लंबी अवधि में, लंबे समय तक कोविड वाले रोगियों को भी सार्स और एमईआरएस वाले रोगियों के समान रोग प्रक्षेपवक्र का अनुभव हो सकता है। यह इस ओर इशारा करता है कि अस्पताल में छुट्टी के छह महीने बाद, सार्स और एमईआरएस के अस्पताल में भर्ती मरीजों में से 25 प्रतिशत में फेफड़ों की कार्यक्षमता और व्यायाम क्षमता कम हो गई है।

वहीं शमील हारून ने कहा कि न तो लंबे कोविड के जैविक या प्रतिरक्षात्मक तंत्र, और न ही कुछ लोगों के इन प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील होने का तर्क, अभी तक स्पष्ट है। यह आवश्यक है कि हम इन मुद्दों को हल करने के लिए जल्दी से जल्दी कार्य करें।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 16 Jul 2021, 2:47 PM